फलफल-फ्रूट

ड्राई फ्रूट के फायदे जानकर रह जाएंगे हैरान// Benefits of dry fruits

ड्राई फ्रूट के फायदे जानकर रह जाएंगे हैरान Benefits of dry fruits

ड्रायफ्रूट का नाम सुनते ही हमारे मन में काजू, बादाम, अखरोट, किशमिश, पिस्ता जैसी गिनी चुनी चीजों का ही खयाल आता है। हम भले ही इन्हें स्वाद के लिए खाते हों लेकिन ये न केवल हमारे शरीर में जरूरी विटामिन और मिनरल्स की आपूर्ति करते हैं बल्कि हमारी हड्डियों व मांसपेशियों को मजबूत बनाने का भी काम करते हैं। सुबह नाश्ते में खाने हों या शाम के वक्त स्नैक्स के रूप में या फिर जिम के बाद एनर्जी के लिए ड्राई फ्रूट हमेशा ही आपकी जरूरतों को पूरा करते हैं। ड्रायफ्रूट्स आपकी सेहत को लंबे वक्त तक दुरुस्त रखने में मदद करते हैं। आज हम जानेंगे ड्राई फ्रूट का सेवन किस तरीके से करना चाहिए कोई गलत तरीके से ड्रायफ्रूट खाने से उनके पूरे न्यूट्रिशंस शरीर को नहीं मिल पाते। यह वह जानकारी है जो आज के समय में आपको पता होना चाहिए।

काजू, बादाम, अखरोट, किशमिश समेत ड्राई फ्रूट्स के हैरान कर देने वाले फायदे

नमस्कार दोस्तो, क्या आप जानते हैं। ड्रायफ्रूट वह होते हैं। जों फलों को सुखाकर बनाया जाता है। जैसे किसमिस, मुनक्का, अंजीर आदि। नट्स वे कहलाते हैं जो बीज के अंदर होते हैं,र किसी सख्त खोल में बंद होते हैं, जैसे बादाम काजू मूंगफली आदि। लेकिन हम आम भाषा में सभी को ड्रायफ्रूट्स कहते हैं। ड्राईफ्रूट्स में काफी मात्रा में पोषक तत्व होते हैं। इन्हें रोजाना उचित मात्रा में खाने से सेहत अच्छी रहती है। पूरा दिन शरीर में एनर्जी रहती है। ड्राय फ्रूट की उचित मात्रा कोलेस्ट्रॉल के लेवल को बैलेंस रखती है, और आयरन, फास्फोरस, पोटेशियम, मैग्नीशियम जैसी जरूरी चीजें भी इनसे शरीर को मिलती है। साथ ही इनमें प्रोटीन और फाइबर की मात्रा भी काफी होती है।

इनका एक बड़ा गुण इनमें एंटी आक्सीडेंट होना भी है जो न केवल कैंसर दिल की बीमारियों डायबिटीज तनाव और दिमाग से जुड़ी समस्या को दूर करता है, बल्कि इम्यूनिटी को भी बढ़ाता है।

एंटी एंटीऑक्सीडेंट वे पदार्थ होते हैं। जो फ्री रेडिकल्स के कारण शरीर की कोशिकाओं को होने वाले नुकसान को रोकते हैं।

बादाम के फायदे// Benefits of almonds

बादाम को ड्राई फ्रूट्स का राजा भी कहते हैं। इसमें काफी मात्रा में हेल्दी फैट्स, प्रोटीन, एंटीऑक्सिडेंट विटामिन्स और मिनरल्स पाए जाते हैं। सौ ग्राम बादाम में 655 कैलोरी 20 पॉइंट आठ ग्राम प्रोटीन 59 ग्राम फैट और 230 मिलीग्राम कैल्शियम होता है।

बादाम को खाने का सबसे अच्छा समय सुबह नाश्ते में माना जाता है। लंच में यह स्नैक्स के रूप में भी आप इसे खा सकते हैं। एक दिन में अधिकतम आठ बदाम ही खाएं। बशर्ते उनके साथ कोई दूसरा ड्रायफ्रूट न खा रहे हों। बादाम हमेशा खाली पेट भिगोकर खाने चाहिए। ऐसा करने से पौष्टिकता दुगनी हो जाती है।

सर्दियों में बादाम खाने का तरीका

बात करें सर्दियों में खाने की 5 बादाम को रात को पानी में रख दें सुबह छिलका तरबूज का पेस्ट बना लें। एक चौथाई चम्मच देसी घी किसी बरतन में डालें उसे गर्म करें। इसके बाद पिसे हुए बादाम को घी में डालकर थोड़ा सुनहरा होने तक भूनें। फिर दूध में डालकर उबाल लें, और गुनगुना होने पर पीले। इससे शरीर गर्म रहता है।

गर्मियों में बादाम खाने का तरीका

गर्मियों में चार, पांच बादाम पानी में रख दें। सुबह छिलका उतारकर उन्हें चबाकर खा लें या फिर आप उसे दूध के साथ भी खा सकते हैं।

काजू के फायदे// Benefits of cashew nut

बादाम के बाद सबसे अधिक खाए जाने वाले ड्रायफ्रूट काजू है। इसमें मोनो अनसैचुरेटेड फैट या कहें गुड फैट होता है। साथ ही काजू में हेल्दी प्रोटीन कैल्शियम और आयरन भी भरपूर मात्रा में पाया जाता है।

सौ ग्राम काजू में 596 कैलरीज, 21 ग्राम प्रोटीन, 47 ग्राम फैट होता है। इसके आकार रंग के अनुसार अच्छे काजू की पहचान की जा सकती है। काजू का रंग सफेद और एक इंच बड़े आकार का काजू अच्छा होता है। काजू अगर टुकड़ों में भी है तो देखिए वह सफेद होना चाहिए। साथ ही दांतों में चिपके नहीं, जरा सा दबाते ही आवाज के साथ टूटना चाहिए। ऐसे काजू खरीदने से बचना चाहिए जिसमें पीलापन हो। अगर काजू पारदर्शी पैकेट में बंद है तो ध्यान से देखिए कहीं उसमें घुन तो नहीं लगा।

एक सामान्य व्यक्ति को दिन में चार से छह काजू खाना काफी है। काजू को अकेले भी खा सकते हैं। यह रोस्ट करके खाने में भी बहुत टेस्टी लगते हैं। ध्यान रहे काजू खाने के करीब एक घंटे बाद ही भोजन करें क्योंकि यह पचने में भारी होते हैं और एक दिन में 8-10 से ज्यादा काजू खाने से एलर्जी और मोटापा हो सकता है।

अखरोट के फायदे// Benefits of Walnut

अखरोट में विटामिन E पाया जाता है। यह दिमाग को तेज और तंदरुस्त रखता है। इसलिए इसे ब्रेन फ्रूट भी कहा जाता है। इसमें ओमेगा 3 फैटी ऐसिड, फाइबर, विटामिन, कार्बोहाइड्रेट, प्रोटीन और आयरन भी भरपूर मात्रा में पाया जाता है। इसे रोजाना खाने से डिप्रेशन और स्ट्रेस में लड़ने में मदद मिलती है।

सौ ग्राम अखरोट में 687 कैलोरी 15 फंड पांच ग्राम प्रोटीन सौ मिलीग्राम कैल्शियम और 55 ग्राम फैट होता है। भारत में लगभग 20% अखरोट कश्मीर से और बाकी अमरीका और अर्जेंटीना और चिली से आता है। बेहतर अखरोट की गिरी सफेद और गोल्डन कलर की होती है। अखरोट की अच्छी गिरी का आकार 10 रुपए के सिक्के जितना होता है।

अगर वह खाने में क्रिस्पी है, तो उसकी क्वॉलिटी अच्छी है। अखरोट की गिरी में कालापन है। यह खाने में कड़वी लगे या उसमें तेल की गंध आ रही हो तो उसे न खरीदें। एक सामान्य शख्स के लिए दिन में एक दो अखरोट काफी होते हैं।

इसे खाने का पहला तरीका है कि इसे पानी में भिगोकर रख दें। सुबह छिलका निकाल दें और गिरी चबाकर खाएं। इसके बाद एक गिलास दूध पी ले।

इसे दूसरे तरीके से खा सकते हैं। एक तो अखरोट को कूटकर पाउडर बना लें। दूध उबालते समय उसमें डाल दें। जब दूध गुनगुना रह जाए तो उसे पीले।

ध्यान रखें अखरोट को इस तरह सेवन करने के बाद एक डेढ़ घंटे तक कुछ भी खाना पीना नहीं है। क्योंकि ये पचने में भारी होता है।

मुनक्का के फायदे// Benefits of dry grapes

मुनक्का सेहत के लिए काफी लाभदायक होता है। इसे किसी भी मौसम में खाया जा सकता है। यह हमारे शरीर में हीमोग्लोबिन बढ़ाता है।

सौ ग्राम मुनक्के में 299 कैलरी, कृपण फ्री प्रोटीन, 62 ग्राम कैल्शियम होता है। 60-70% मुनक्का संस्थान स्थान से और 30-40% मुनक्का पाकिस्तान से आता है।

बाजार में खरीदते वक्त एक दो मुनक्का खाकर देखें। अगर यह थोड़े से भी खट्टे लगे तो न खरीदें। क्योंकि मुनक्का पूरी तरह से मीठा होता है। वैसे तो मुनक्का अकेले भी खा सकते हैं लेकिन सुबह नाश्ते में दूध के साथ खाना अच्छा लगता है, या दिन में खाना खाने के बाद पांच से सात मुनक्के खा लें। या फिर चार-पांच मुनक्के को रात को पानी में भिगों दे। और सुबह खाली पेट खा लें। इन्हें खाने का दूसरा तरीका ये है कि पांच-दस मुनक्के रात को पानी में भिगो दें। सुबह इनमें से बीज निकाल लें, और एक गिलास दूध में मुनक्के को उबाल लें। जब वे दूध के ऊपर तैरने लगे तो दूध उतार लें और गुनगुना होने पीले।

मुनक्के को इस तरह खाने से कब्ज की शिकायत दूर होती है। ध्यान रखें मुनक्के को इस तरह सेवन करने के एक घंटे तक कुछ न खाएं पिएं क्योंकि ये पचने में भारी होते हैं।

किशमिश के फायदे// benefits of raisin

किशमिश एनर्जी से भरपूर ड्राई फ्रूट है। एंटी ऑक्सीडेंट के कारण भी इसे खाने की सलाह दी जाती है। इसमें आयरन कैल्शियम आदि काफी मात्रा में होते हैं। शरीर में वात और पित्त दोष को दूर करने में किशमिश काफी लाभदायक होती है

सौ ग्राम किसमिस में 308 कैलरी, 55 एट ग्राम प्रोटीन जीरो पंडित रीजनल फैट, 7 मिलीग्राम कैल्शियम, सेवन पर सेवन मिलीग्राम आयरन होता है।

कैलिफोर्निया और अफगानिस्तान की किशमिश हरे रंग की होती हैं। पर ये खाने में पूरी तरह मीठी नहीं होती। गोल्डन इन्डियन किसमिस देखने में सुनहरे रंग की होती है। यह खाने में मीठी होती है। ऐसे किसमिस ना खरीदें जिसमें चीनी जैसा कुछ दिखाई। दे हो सकता है, कि इसे मीठा बनाने के लिए कुछ मिलाए गए हो। किशमिश में पानी दिखाई दे तो समझ लें इसे सही तरीके से तैयार नहीं किया गया है, और यह सेहत के लिए हानिकारक है। बेहतर तो यह होगा कि आप organic किशमिश ही खरीदें।

किशमिश को खीर या हलवें में मिलाकर सुबह नाश्ते में खाना बेहतर माना गया है। एक दिन में आठ से 10 किशमिश खाना काफी है या फिर आप गर्मियों में ठंडाई में मिलाकर किशमिश खा सकते हैं। ध्यान रखें सर्दी में खाली किसमिस का सेवन नहीं करना चाहिए। अधिक मात्रा में किसमिस खाने से मोटापा और डायबिटीज हो सकती है।

मूंगफली के फायदे// Benefits of peanuts

मूंगफली को गरीबों का बादाम भी कहा जाता है। मूंगफली के दाने को उसके रंग और आकार से अलग अलग किया जा सकता है। मूंगफली का दाना जितना सफेद और क्रिस्पी होगा वह उतना ही सही होगा।

30 ग्राम मूंगफली में 160 कैलोरी और साढ़े सात ग्राम प्रोटीन होता है। मूंगफली में लगभग वे सभी मिनरल्स और विटामिन्स पाए जाते हैं जो बदाम में होते हैं। मूंगफली को वैसे आमतौर पर अकेले ही खाया जाता है। लेकिन मूंगफली को गुड़ के साथ खाना बेहतर माना गया है।

सौ ग्राम मूंगफली के दाने 25 ग्राम गुड़ के साथ दिन में किसी भी समय खा सकते हैं। सर्दियों में मूंगफली और गुड़ की गजक खाना अच्छा रहता है। यह शरीर को गर्म बनाए रखती है।

ध्यान रखें एक दिन में सौ ग्राम से ज्यादा मूंगफली न खाएं क्योंकि ये पचने में भारी होती है। और दिन में सौ ग्राम से ज्यादा मूंगफली खाने पर एनर्जी पेट में गैस खाँसी की समस्या हो सकती है और मूंगफली खाने के एक घंटे बाद तक कुछ न खाएं पिये।

तो यह थी सारी जानकारी ड्रायफ्रूट्स के बारे में अगर आपको इस article से जुड़ी कोई भी जानकारी चाहिए। तो नीचे coment box में लिख सकते हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button