Notifications
×
Subscribe
Unsubscribe
हेल्थ

अस्थमा के मरीजों के लिए डाइट चार्ट- Diet Chart for Asthma Patients in hindi

Read in English

अस्थमा के मरीजों के लिए डाइट चार्ट:- अस्थमा एक गंभीर बीमारी है जिसमें मरीज को सांस लेने में काफी दिक्कत होती है। इस रोग में सांस की नली संकरी हो जाती है, जिससे मरीजों को सांस लेने में दिक्कत होती है। मौसम में बदलाव आने पर भी अस्थमा के मरीजों को काफी परेशानी उठानी पड़ती है। अगर आप भी अस्थमा से पीड़ित हैं, और अस्थमा का इलाज करा रहे हैं, लेकिन उचित लाभ नहीं मिल रहा है तो यह जानकारी आपके लिए बेहद जरूरी है। यहां अस्थमा के मरीजों के लिए डाइट प्लान की जानकारी दी जा रही है, जिससे आप अस्थमा की रोकथाम में पूरी तरह सफल हो सकें।

अस्थमा के मरीज इस डाइट चार्ट को अपनाकर न सिर्फ अस्थमा से बचाव कर सकते हैं, बल्कि जल्द ही खुद को स्वस्थ भी बना सकते हैं।

अस्थमा के मरीजों के लिए डाइट चार्ट

अस्थमा (श्वास विकार) से पीड़ित लोगों का आहार इस प्रकार होना चाहिए:-

  • दलिया जैसा व्यंजन, पुराना चावल, गेहूं, जौ
  • धड़कन, मूंग, मसूर, तूर
  • फल और सबजीया, लौकी, तोरई, कद्दू, करेला, पालक, फूलगोभी, गाजर, बैंगन, बथुआ, टमाटर, मौसमी हरी सब्जियां, पपीता, शकरकंद, सेब, जावा प्लम, आम, स्ट्रॉबेरी
  • अन्य, रस, एस्परैगस, सूरजमुखी, बादाम, जौ, दालचीनी, धूर्त, काली मिर्च ,पीपली, शहद, गुनगुना पानी, लहसुन
  • दवा, पतंजलि च्यवनप्राश, अमृत रसायन, त्रिकटु चूर्ण, गुड़, वासा अवलेहा, ब्रैकट

अस्थमा में बचने के लिए भोजन

अस्थमा (श्वास विकार) से पीड़ित लोगों को इनका सेवन नहीं करना चाहिए:-

  • दलिया जैसा व्यंजन, नया चावल, मैदा
  • धड़कन, उड़द, मटर, चना, काबुली चना
  • फल और सबजीया, आलू और अन्य कंद, सरसों का साग
  • अन्य, धूल, धुआं, परेशान करने वाले खाद्य पदार्थ, मछली, तेल की अत्यधिक मात्रा, पान, ठंडा भोजन, बासी भोजन, दूषित पानी, सूखा खाना, तला हुआ खाना
  • सख्त इनकार, तेल का, मस्लेदार, घी, बहुत ज्यादा नमक, बेकरी उत्पाद, जंक फूड, फास्ट फूड डिब्बाबंद भोजन

अस्थमा के इलाज के लिए आपका डाइट प्लान

अस्थमा के उपचार के दौरान (श्वास विकार) दांतों को ब्रश करने के लिए सुबह उठें ,बिना धोए, पहले खाली पेट 1-2 एक गिलास गुनगुना पानी पिएं। नाश्ते से पहले पतंजलि आंवला और एलोवेरा जूस पिएं।

समय आहार योजना , शाकाहार,
नाश्ता (8 :30 पूर्वाह्न)1 कप पतंजलि दिव्य पेय/ 1 कप दूध पतंजलि हरिद्रखंड साथ + 2-3 स्वास्थ्य बिस्कुट , पतंजलि आरोग्य दलिया ,नमकीन, ,पोहा ,समानता ,सूजी ,अंकुरित अनाज / 2-3 रोटी ,मिश्रित अनाज का आटा, पतंजलि, + 1 हरी सब्जियों का कटोरा ,उबला हुआ, 1 प्लेट फ्रूट सलाद (सेब, जावा प्लम, आम, स्ट्रॉबेरी, पपीता)
दिन का भोजन

(12:30-01:30 अपराह्न)

1-2 पतली रोटियां ,पतंजलि मिश्रित अनाज का आटा ) + 1 हरी सब्जियों का कटोरा ,उबला हुआ ) + 1 मूंग दाल का कटोरा ,पतला ) + 1 प्लेट सलाद
शाम का नाश्ता

(05: 30-06: 00 अपराह्न)

1 कप पतंजलि दिव्य पेय + 2-3 पतंजलि आरोग्य बिस्कुट / 1 गिलास लौंग दूध + 3-4 सूखे खजूर / 4-5 तारीख ,सब्जियों का सूप
रात का खाना (7:00-8: 00 अपराह्न) 1-2 पतली रोटियां ,पतंजलि मिश्रित अनाज का आटा ) + 1 हरी सब्जियों का कटोरा ,उबला हुआ ) + 1 दाल का कटोरा ,मूंग, तूर, मिश्रित,पतला,
(30 मिंट) सोने से पहले 1 गिलास दूध के साथ पतंजलि हरिद्रखंड पाउडर

सलाह, यदि रोगी को चाय की आदत है, तो इसके बजाय 1 कप पतंजलि दिव्य पेय दे सकते हो।

अस्थमा के इलाज के लिए आपकी जीवनशैली

अस्थमा (श्वास विकार) के रोग में आपकी जीवनशैली कुछ इस प्रकार होनी चाहिए:-

  • धूम्रपान न करें
  • पहले खाए गए भोजन को पचाने से पहले न खाएं।
  • जरूरत से ज्यादा व्यायाम न करें।
  • क्रोध, डर, जल्दी, चिंता मत करो।
  • दिन में न सोएं
  • छींकमूत्र, प्यास आदि बंद न करें।
  • बारिश-ठंडी और धूल भरी जगह से बचें।
  • बहुत ठंडे और उच्च आर्द्रता वाले वातावरण में न रहें।
  • घर से बाहर निकलते समय मास्क पहनें।
  • सर्दी के मौसम में धुंध में जाने से बचें।
  • ताजा पेंट, कीटनाशक, स्प्रे, अगरबत्ती, मच्छर भगाने वाली कॉइल से निकलने वाले धुएं, सुगंधित इत्र से बचें।
  • धूम्रपान करने वाले लोगों से दूर रहें।

अस्थमा रोग में याद रखने योग्य बातें

अस्थमा (श्वास विकार) से राहत पाने के लिए आपको इन बातों का ध्यान रखना होगा:-

,1) प्रतिदिन ध्यान और योग का अभ्यास करें।

(2) ताजा और हल्का गर्म खाना ही खाना चाहिए।

(3) शांत, सकारात्मक और प्रसन्न मन से शांत स्थान पर धीरे-धीरे भोजन करें।

(4) दिन में तीन से चार बार भोजन अवश्य करें।

(5) किसी भी समय खाना न छोड़ें, और अत्यधिक भोजन से बचें

(6) सप्ताह में एक बार उपवास करें।

(7) पेट का 1/3/1/4 भाग खाली छोड़ दें।

(8) भोजन को ठीक से चबाकर धीरे-धीरे खाएं।

(9) खाना खाने के बाद 3-5 मिनट तक टहलें।

(10) सूर्योदय से पहले [5:30 – 6:30 am] उठो

(11) अपने दांतों को दिन में दो बार ब्रश करें।

(12) रोज जियो।

(13) खाना खाने के बाद थोड़ी देर टहलें।

(14) रात में सही समय पर [9-10 PM] सो जाओ

अस्थमा (श्वास विकार) को रोकने के लिए योग और आसन (दमा के इलाज के लिए योग और आसन)

अस्थमा (श्वास विकार) से राहत पाने के लिए आप कर सकते हैं ये योग और आसन:-

  • योग प्राणायाम और ध्यान, bhastrika, कपाल से, बह्या प्राणायाम, अनुलोम विलोम, Bhramari, उदित, उज्जयी, प्रणव जप.
  • आसन, गोमुखासन, मर्कटासन, सिंहासन, भुजंगासन।

भुजंगासन के लाभ

Read in English

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button