Notifications
×
Subscribe
Unsubscribe
डाइट प्लानबिमारी

गठिया के लिए आहार योजना-diet plan for arthritis in hindi

Read in English

गठिया रोगियों के लिए आहार योजना:- बढ़ती उम्र के साथ जोड़ों का दर्द एक आम समस्या है। आमतौर पर यह समस्या गाउट नामक बीमारी के कारण होती है। जोड़ों का दर्द और सूजन गाउट के मुख्य लक्षण हैं। रक्त में यूरिक एसिड का उच्च स्तर यह समस्या स्वयं के कारण होती है। इस लेख में हम बता रहे हैं कि अगर आप गठिया के मरीज हैं तो आपको अपने आहार और दिनचर्या में क्या बदलाव करने चाहिए।

गठिया रोगियों के लिए आहार योजना

  • दलिया जैसा व्यंजन: पुराना साली चावल, जौ, गेहूं, दलिया, दलिया
  • दाल: मूंग, तुरू
  • फल सब्जियां: लौकी, करेला करेला, कद्दू, पत्ता गोभी (मौसमी सब्जियां), बथुआ, शतावरी शिग्रु (सहज), अंगूर, अनार, सेब, पपीता, खीरा, गाजर, टमाटर
  • अन्य: अदरक, हल्दी, लौंग, काली मिर्च, हरी चाय, गुडची, मक्खन

गठिया होने पर क्या नहीं खाना चाहिए

  • दलिया जैसा व्यंजन: आटा, नया चावल
  • दाल : छोला, कुलठ, राजमा, सोया उत्पाद।
  • फल सब्जियां: मूली, मटर, नींबू, लाल मिर्च, फूलगोभी
  • अन्य: कांजी, दही मांसाहारी, चॉकलेट, उच्च नमक, कॉफी, चीनी, खट्टा, देर से पचने वाले और गर्म खाद्य पदार्थ, खजूर, आलूबुखारा, बेकरी उत्पाद, डिब्बाबंद भोजन, तला हुआ और पचने में मुश्किल भोजन।

गाउट के इलाज के दौरान अपनाएं ये डाइट प्लान

सुबह उठकर बिना ब्रश किए खाली पेट 1-2 गिलास गुनगुना पानी पिएं और नीचे दिए गए डायट चार्ट को फॉलो करें।

आहार चार्ट:

समयआहार योजना (शाकाहारी)
नाश्ता (सुबह 8:30 बजे)1 कप पतंजलि दिव्य पेय / 1 कप दूध पतंजलि पॉवरविटा / बादाम पाक के साथ + 1 प्लेट ताजा मौसमी फलों का सलाद (तरबूज, अंगूर, अमरूद, केला, सेब, अनार) / पोहा / उपमा / सूजी / पतंजलि दलिया / 1 कटोरी ओट्स
दिन का भोजन (12:30-01:30) अपराह्न1-2 पतली रोटियां (पतंजलि मिश्रित अनाज का आटा) + 1 कटोरी हरी सब्जियां (ताजी, हरी पत्तेदार, फलियां आदि) उबली हुई + 1/2 कटोरी दाल (मूंग, तूर या मिक्स) पतली + 1 प्लेट सलाद
शाम का नाश्ता (03:30) दोपहर1 कप दिव्य पेय + 2-3 पतंजलि आरोग्य बिस्कुट / 1 कटोरी सब्जी का सूप / सलाद
रात का खाना (7:00 – 8:00 बजे)1-2 पतली रोटियां (पतंजलि मिश्रित अनाज का आटा) + 1½ कटोरी हरी सब्जियां + 1 कटोरी मूंग दाल (पतली)

गाउट के लिए स्वस्थ फल

अगर आपको गठिया है तो अपनाएं ये जीवनशैली

  • कुछ देर तक शरीर की मालिश करें।
  • नियमित रूप से आराम करें।
  • प्रतिदिन ध्यान और योग करें।
  • यदि रोगी को चाय की आदत है तो उसकी जगह 1 कप पतंजलि दिव्य पेय ले सकते हैं।


गठिया में ध्यान रखने योग्य बातें

  • ताजा और हल्का गर्म खाना खाएं।
  • शांत, सकारात्मक और प्रसन्न मन से शांत स्थान पर धीरे-धीरे भोजन करें।
  • दिन में तीन से चार बार भोजन अवश्य करें।
  • किसी भी समय भोजन न छोड़ें और अधिक भोजन करने से बचें।
  • सप्ताह में एक बार उपवास करें।
  • एक तिहाई या एक चौथाई पेट खाली छोड़ दें, यानी भूख से थोड़ा कम खाना खाएं।
  • भोजन को अच्छी तरह चबाकर धीरे-धीरे खाएं।
  • खाना खाने के बाद 3-5 मिनट टहलें।
  • सूर्योदय से पहले उठें (सुबह 5:30 – 6:30 बजे)
  • दिन में दो बार ब्रश करें और अपनी जीभ को नियमित रूप से साफ करें।
  • खाना खाने के बाद थोड़ी देर टहलें और रात को (रात 9-10 बजे) सही समय पर सोएं।

योग और आसनों से करें गठिया का इलाज

अगर आप गठिया से पीड़ित हैं तो इस योगासन को नियमित रूप से करें।

अनुलोम विलोम के लाभ

योग प्राणायाम और ध्यान: भस्त्रिका, कपालभाति, बह्यप्राणायाम, अनुलोम विलोम, भ्रामरी, उद्गीता, उज्जयी, प्रणव जप

आसन: सूक्ष्म व्यायाम, उत्तानपादासन, पदवृतासन

Read in English

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button