त्वचा-की-देखभाल

face par pimples kyu hote hai in hindi// चेहरे पर पिंपल्स होने के कारण

face par pimples kyu hote hai in hindi
हमारा चेहरा हमारे शरीर के लिए आईने की तरह काम करता है। इसलिए जब भी हमारे शरीर के अंदर कोई गड़बड़ी होती है। तो वो हमारे चेहरे पर कालापन, दाग, धब्बे और पिंपल्स के रूप में साफ साफ दिखाई पड़ने लगता है। जैसे कि चेहरे पर छोटे-बड़े पिंपल्स का होना। पिंपल्स अचानक से पूरे चेहरे पर फैल जाना। एक ही जगह पर बार बार पिंपल्स आना और लाख कोशिश करने के बावजूद पिंपल्स खत्म होकर चेहरे पर वापस आ जाना।
 
कहीं न कहीं इस बात की तरफ इशारा करता है, कि प्रॉब्लम से बाहर ही नहीं। बल्कि शरीर के अंदर भी हैं, जो कि पिंपल्स को जड़ से खत्म नहीं होने दे रहा। इसलिए जरूरी है, कि अगर आप सच में पिंपल्स को खत्म करना चाहते हैं। तो आपको समझना होगा कि पिंपल्स की प्रॉब्लम को सिर्फ चेहरे पर कुछ लगा कर पूरी तरह से ठीक नहीं किया जा सकता। पिंपल्स की प्रॉब्लम में चेहरे पर लगाए जाने वाले नुस्खे के साथ साथ खान पान और कुछ गलत तरीकों पर भी कंट्रोल करना बहुत ज़रूरी होता है।
 

चेहरे पर पिंपल्स क्यों होते हैं?

फिलहाल हम शुरू करते हैं। कि एक ही जगह पर बार बार पिंपल्स क्यों आते हैं, और उसे किस तरीके से रोका जा सकता है। 
एक बात आपको समझ लेनी चाहिए, कि चेहरे के किसी भी हिस्से पर पिंपल्स होने की सिर्फ एक ही वजह होती है। वो है, हमारे चेहरे पर मौजूद छोटे छोटे रोम छिद्र का बंद हो जाना। रोम छिद्र के बंद होने से हमारे स्किन के अंदर से निकलने वाले नेचुरल आयल बाहर नहीं निकल पाते हैं। इसलिए वो पिम्पल्स का रूप ले लेते हैं।
 

पिंपल्स के कारण

यहा समझने वाली बात ये है, कि चाहे पिम्पल्स होने का एक ही कारण हो लेकिन रोम छिद्र के बंद होने के कई कारण हो सकते हैं। वो इस प्रकार है।
  1. चेहरे का बहुत ज्यादा ऑयली या ड्राई होना। 
  2. चेहरे की सफाई ठीक से न हो पाना।
  3. पाचन में हमेशा गड़बड़ी रहना।
  4.  ठीक से पेट साफ न होना चेहरे।
  5.  बालों में खराब तरीके के केमिकल वाले प्रोडक्ट का इस्तेमाल करना। 
 

लेकिन कई बार देखा गया है, कि सिर्फ चेहरे के किसी एक हिस्से पर बार बार पिंपल्स आते रहते हैं। जैसे कि किसी को माथे पे। किसी को गाल नाक या फिर किसी को दाढ़ी वाले हिस्से में पिंपल्स की प्रॉब्लम होती है। तो आइए इस बारे देखते हैं।

 

mathe par pimple होने के कारण

 माथे का ऊपरी हिस्सा डाइजेस्टिव सिस्टम यानि कि हमारे पाचन तंत्र और मूत्राशय से जुड़ा होता है। इसलिए माथे के ऊपरी हिस्से में आने वाला पिम्पल पाचन में गड़बड़ी और शरीर में पानी की कमी को दर्शाता है।
 
इसलिए ऐसे में जरूरी है, कि ऐसी चीजें जो कि पचने में बहुत ही मुश्किल होती हैं। जैसे कि ज्यादा तेल मसाले और मैदे से बनी चीजों को छोड़कर। ताजे फल और सब्जियों की तरफ ज्यादा फोकस करना चाहिए। साथ ही साथ दिन भर में तीन से साढ़े तीन लीटर पानी जरूर पीना चाहिए। 
 
माथे में होने वाले पिंपल्स का दूसरा कारण डैंड्रफ या बालों में इस्तेमाल किए जाने वाले शैम्पू या ऑइल हैं। जेल वैक्स और हेयर स्प्रे जैसे प्रोडक्ट भी हो सकते हैं क्योंकि डैंड्रफ में पाए जाने वाले बैक्टीरिया और हेयर प्रोडक्ट्स में मौजूद केमिकल का कुछ हिस्सा माथे के हिस्से में भी आ जाता हैं। जो कि रोम छिद्र को बंद कर देते हैं, जिसकी वजह से पिम्पल्स की प्रॉब्लम शुरू होने लगती है।
 
इसलिए ऐसे में जरूरी है, कि अपने बालों को शैम्पू से धोते वक्त सर को पीछे की तरफ झुकाकर, माथे की तरफ से पानी डालें। ताकि शैम्पू वाला पानी चेहरे पे ना आकर सर के पीछे वाले हिस्से की तरफ से बह जाए। ऐसा करने से शैम्पू में मौजूद केमिकल से काफी हद तक बचा जा सकता है। 
 

माथे के निचे वाले हिस्से पर pimple होने के कारण

माथे का निचे वाला हिस्सा हमारे दिमाग, पाचन और वैस्कुलर सिस्टम से जुड़ा होता है ।इसलिए माथे के नीचे वाले हिस्से पर आने वाला पिम्पल्स स्ट्रेस, डिप्रेशन और नींद की कमी को दर्शाता है। इसलिए जरूरी है, कि रात को जल्दी सोएं और 6 से 8 घंटे की अच्छी नींद जरूर लें। थोड़ी एक्सरसाइज और मेडिटेशन भी करें।
 

आईब्रो के बीच वाले हिस्से मे pimple होने के कारण

 अब बारी आती है, दोनों आईब्रो के बीच वाले हिस्से की। ये  हिस्सा हमारे लीवर से कनेक्टेड होता है। इसलिए दोनों आईब्रो के बीच में आने वाला पिम्पल्स लिवर में आई गड़बड़ी को दर्शाता है। इसलिए बहुत ज्यादा फैटी फूड, जैसे कि नॉनवेज और तली हुई चीजों का ज्यादा इस्तेमाल से लिवर को बहुत मेहनत करनी पड़ती है। 
 
इसलिए जरूरी है, कि ऐसी चीजों को छोड़कर सादे खाने पर ज्यादा फोकस किया जाए। जिससे कि हमारे लिवर को अपनी सफाई का मौका मिल सकें। 
 

नाक पर pimple होने के कारण

हमारे चेहरे का ये हिस्सा हमारे दिल से जुड़ा होता है । इसलिए नाक पर आने वाला पिम्पल्स हाई ब्लड प्रेशर, स्ट्रेस और खून में आई अशुद्धियों को दर्शाता है। ऐसे में जरूरी है, कि धूम्रपान, शराब और बहुत ज्यादा तेल मसाले बहुत ज्यादा नमक और चीनी से बनी चीजों से परहेज करते हुए, रोज तीन  लीटर पानी पीएं। 
ताजे फल और सब्जियों का ज्यादा से ज्यादा सेवन करें। खासकर आपको अपनी डाइट में ओमेगा थ्री फूड को जरूर शामिल करना चाहिए। 
 
कई बार नाक और उसके आस पास आने वाला पिंपल्स रात को बिना चेहरा धोए सो जाने की वजह से भी हो सकता है, क्योंकि चेहरे के इस हिस्से पर हमारी स्किन ज्यादा ऑइल छोड़ती है। जिससे कि चेहरे के इस हिस्से पर धूल मिट्टी भी बहुत जल्दी जमने लगती है। इसलिए जरूरी है, कि रात को सोने से पहले चेहरा धोने का खास ख्याल रखें। 

गाल पर pimple होने के कारण

गाल वाला हिस्सा का लिवर और फेफड़े  से कनेक्टेड होता है। इसलिए गालों पर आने वाला पिम्पल लिवर मे पाचन में गड़बड़ी को दर्शाता है। इसलिए ऐसे में जरूरी है, कि जो चीजें लीवर और फेफड़े पर ज्यादा जोर डालती हैं, उससे परहेज करना चाहिए। जैसे कि धूम्रपान, तंबाकू और शराब को पूरी तरह बंद करने के साथ साथ डेयरी प्रोडक्ट, शुगर और फैटी फूड को कम से कम ही सेवन करना चाहिए।
 
फेफड़े की अच्छी सेहत के लिए pollution से भी बचना बहुत जरूरी होता है। इसलिए ज्यादा धूल मिट्टी और pollution वाली जगह में जाते वक्त pollution मास्क का इस्तेमाल जरूर करना चाहिए। 
 

गाल के निचले वाले हिस्से में pimple होने के कारण

गाल के निचले वाले हिस्से में आने वाला पिम्पल दांतों और मसूड़ों में जमी गंदगी को दर्शाता है। इसलिए जरूरी है, कि मुंह की सफाई का भी खास ख्याल रखा जाए। 
दोनों साइड वाले गालों पर आने वाले पिम्पल्स के पीछे का कारण गंदे तकिए के कवर भी हो सकते हैं। शायद आपको सुनकर थोड़ा अजीब लग रहा होगा। लेकिन रात को सोते समय सर में मौजूद तेल और बैक्टीरिया, बालों से तकिए पे और तकिये से आपकी गालों की स्किन पर आकार पिंपल्स को जन्म देते हैं। इसलिए जरूरी है, कि तीन से चार दिन या फिर हफ्ते में कम से कम एक बार तकिए के कवर की सफाई जरूर करनी चाहिए। 
 

कान वाले हिस्से pimple होने के कारण

उसके बाद बारी आती है, कान वाले हिस्से की। ये हिस्सा हमारी किडनी से जुड़ा होता है। इसलिए कान वाले हिस्से से निकलने वाला पिम्पल किडनी में आई गड़बड़ी और खून में आई गंदगी को दर्शाता है। इसलिए ऐसे में जरूरी है, कि शराब, जंक फूड और पैकेट में मिलने वाली चीजों से परहेज करते हुए पानी पीने की लिमिट को पूरा करने का खास ख्याल रखना चाहिए। 
 
कई बार कान के आसपास के हिस्से में आने वाला पिम्पल्स मोबाइल पर बहुत ज्यादा देर तक बात करने की वजह से भी हो सकता है। 

Jawline यानि के जबड़े pimple होने के कारण

अब बारी आती है,  जबड़े पर आने वाले पिंपल्स की। जो jawline पर आने वाले पिंपल्स लड़कों के मुकाबले लड़कियों में ज्यादा देखे जाते हैं। क्योंकि चेहरे का ये हिस्सा रिप्रोडक्टिव ऑर्गन यानी के प्रजनन अंग से जुड़ा होता है। इसलिए जबड़े पर आने वाले पिंपल्स हार्मोनल imbalance, मासिक धर्म और पीरियड्स में आई गड़बड़ी को दर्शाता है। इसलिए ऐसे में जरूरी है, कि खासकर ऐसी चीजें जो हॉर्मोन को टारगेट करती हैं। उसका कम से कम ही सेवन किया जाए या फिर कुछ दिन के लिए पूरी तरह से रोक दिया जाए। जैसे कि बाहर के जंक फूड, दूध और चीनी से बनी चीजें और अपने खाने में एंटीऑक्सिडेंट रीच फूड प्रोबायोटिक जैसे कि ताजे फल सब्जियां और आपन साइडर विनेगर जैसी चीजों को अपने खाने में शामिल करना चाहिए।
 

दाढ़ी और मुंह के आसपास के हिस्से पर pimple होने के कारण

ये हिस्सा छोटी आंत आसे जुड़ा होता है। इसलिए इस जगह पर आने वाला पिंपल अपचन और हॉर्मोन में आए असंतुलन को दर्शाता है। इसलिए ऐसे में जरूरी है, कि ऐसी चीजें जो कि आंतों में चिपकती हैं और कब्ज पैदा करती हैं उसे दूर ही रहा जाए। जैसे कि मैदे से बनी चीजें और बहुत ज्यादा तेल मसाले वाली चीजें।
साथ ही साथ हाई फाइबर फूड को अपनी डाइट में शामिल करना चाहिए। ताकी पाचन को बेहतर बनाया जा सके। जैसे कि ब्राउन राइस, ओट्स, मटर ब्रोकली, गाजर और सेब जैसी चीजें।
 
दोस्तो ,कई बार एक ही जगह पर बार बार पिंपल्स होने का कारण। पिंपल्स को लगातार फोड़ते रहना भी हो सकता है।  पिंपल्स को फोड़ने से वो बाहर फूटने के साथ साथ अंदर भी फूटता है, जिससे बाहर मौजूद बैक्टीरिया आसानी से स्किन के अंदर प्रवेश कर के बढ़ने लगता है, जिससे पिंपल्स आसपास के हिस्से में भी फैलने लगता है। 
हो सके तो इस article को शेयर भी कर दें, ताकि दूसरे लोग भी इससे फायदा उठा सकें।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button