Notifications
×
Subscribe
Unsubscribe
प्रेगनेंसी

तीसरी तिमाही में एक लड़का होने के लक्षण

bethany-beck-ESa4pyReF5w-unsplash

जब एक औरत गर्भ धारण करती है, तो उसके साथ-साथ उसका पूरा परिवार एक सुनहरा ख़्वाब बुनने लगता है। घर में आने वाले नन्हें मेहमान के स्वागत के लिए तरह-तरह की तैयारियाँ शुरू हो जाती हैं। लेकिन, आने वाला मेहमान नन्हा राजकुमार होगा या राजकुमारी, यह बात डिलीवरी के समय तक राज़ ही रहती है।

दरअसल, भारत में जन्म से पहले बच्चे का लिंग पता करना अपराध है। भारतीय कानून किसी भी तकनीक या मशीन की मदद से जन्म से पहले भ्रूण के लिंग परीक्षण की इजाज़त नहीं देता है। हमारे देश में सही जानकारी के अभाव में काफ़ी कम ही लोगों को पता है कि माँ के गर्भ में पल रहे बच्चे का लिंग प्रकृति कैसे तय करती है।

मॉमजंक्शन के इस लेख में हम आपको बताएंगे कि प्रकृति मनुष्य के लिंग का निर्धारण कैसे करती है। साथ ही हम आपको उन प्रचलित और पारंपरिक नुस्खों के बारे में भी बताएंगे, जिनकी मदद से बच्चे के लिंग का अनुमान लगाया जाता रहा है।

लड़का या लड़की कैसे पैदा होती है?// Baby’s sex Determined in Hindi

जीव विज्ञान के मुताबिक, महिलाओं और पुरुषों में दो तरह के यौन गुणसूत्र (सेक्स क्रोमोसोम) पाए जाते हैं। महिला के अंडाशय में XX क्रोमोसोम और पुरुष के शुक्राणु में XY क्रोमोसोम होता है। XX क्रोमोसोम लड़की और XY क्रोमोसोम लड़के का लिंग निर्धारित करते हैं। जब पुरुष के शुक्राणु का Y क्रोमोसोम महिला के अंडाशय के X क्रोमोसोम से निषेचित होता है, तो लड़का पैदा होता है। इसी तरह, अगर पुरुष के शुक्राणु का X क्रमोसोम महिला के अंडाशय के X क्रोमोसोम से निषेचित होता है, तो लड़की पैदा होती है।

गर्म में लड़की या लड़का होने के लक्षण |

पेट का आकार 

पेट के आकर को देखकर इस बात का अंदाजा लगाया जा सकता है की गर्भ में पल रहा शिशु लड़का है या लड़की। हमारे देश में मौजूद ये प्रथा सालों पुरानी है, इसके अनुसार, अगर आपका पेट आगे की तरफ निकला हुआ है तो इसका मतलब यह हुआ की आप एक लड़के को जन्म देने वाली हैं। साथ ही, अगर आपका पेट बड़ा है और दिखने में गोल है तो यह इस बात की तरफ इशारा करता करता है की आपके घर में एक नन्ही सी राजकुमारी आने वाली है।

बार बार मूड बदलना 

प्रेगनेंसी के दौरान बार बार मूड बदलना प्रेगनेंसी के लक्षणों में से एक माना जाता है। लेकिन इसके साथ एक और भी मान्यता जुड़ी है। वो यह की अगर प्रेगनेंसी की पहली तिमाही के दौरान किसी खास बात और तीसरी तिमाही में हर बात को लेकर आपको दुःख और पछतावा हो तो इसका मतलब यह हुआ की आपके गर्भ में लड़का है। लेकिन अगर आपके गर्भ में बेटी है तो आपकी भावनाएं संतुलित रहेंगी।

शिशु का पेट में लात मारना  

प्रेगनेंसी के 16 से 25 सप्ताह के दौरान शिशु आपकी पेट में लात मारना शुरू कर देता है। लेकिन क्या आपको यह मालूम है की शिशु के लात मारने से भी इस बात का पता लगाया जा सकता है की वह एक लड़का है या फिर लड़की। Ultrasound Report of Pregnancy Gender in Hindi सालों से लोगों का ऐसा मानना है की अगर शिशु पेट के निचले हिस्से में लात मारता है तो इसका मतलब यह है की वह लड़का है लेकिन अगर वह पसली की तरफ लात मारता है तो यह इस बात की ओर इशारा करता है की वह एक लड़की है।

पसंदीदा चीजों को खाना 

प्रेगनेंसी के दौरान महिला के खान पान से भी इस बात का पता लगाया जा सकता है की वह एक लड़के को जन्म देने वाली हैं या लड़की को। ऐसा माना जाता है की अगर प्रेगनेंसी के दौरान आपको पूरे दिन भर मिठाई या आइसक्रीम खाने का मन करता है तो इसका मतलब यह हुआ की आप एक सुंदर राजकुमारी को जन्म देने वाली हैं। लेकिन अगर आपको पूरे दिन चटपटा और मसालेदार चीजों का खाने का मन करता है तो यह इस बात की ओर इशारा करता है की आपके गर्भ में एक छोटा नवाब पल रहा है।

खाने से नफरत होना या खाने के बाद उलटी 

प्रेगनेंसी का अनुभव हर एक महिला के लिए अलग होता है। जहां एक तरफ कुछ महिलाएं दिन में पांच बार खाना खाती हैं तो वही दूसरी तरफ कुछ महिलाओं का खाना खाने से मन ही उठ जाता है। उन्हें खाने से नफरत हो जाती है। लेकिन क्या आपको पता है की यह प्रतिक्रिया उनके गर्भ में पल रहे शिशु के लिंग की तरफ भी इशारा कर सकती है।

ऐसा कहा जाता है की जिन महिलाओं के गर्भ में लड़का होता है उन्हें खाना खाने से नफरत या खाना खाने के बाद उलटी की अधिकतर शिकायत होती है। Ultrasound Report of Pregnancy Gender in Hindi एक रिसर्च से भी यह बात सामने आई है की शरीर मादा भ्रूण की तुलना में नर भ्रूण को अधिक सुरक्षित रखता है क्योंकि यह ज्यादा असुरक्षित होते हैं।

स्तनों का आकार बढ़ना 

प्रेगनेंसी के दौरान हार्मोन में असंतुलन होने के कारण आपके शरीर में ढेरों बदलाव आते हैं। इन्ही बदलावों में से एक आपके स्तनों के आकार में बदलाव आना है। ऐसी मान्यता है की अगर प्रेगनेंसी के दौरान आपके स्तनों का आकार बढ़ जाए और आपको उनमें भारीपन एवं मजबूती महसूस हो तो आप एक लड़की को जन्म देने वाली हैं। लेकिन अगर आपके स्तनों में कोई खास बदलाव नहीं आता है तो यह इस बात की ओर इशारा करता की आपके गर्भ में लड़का है। (और पढ़ें: प्रेगनेंसी में इन बातों का ख्याल रखें)

चेहरे में बदलाव 

क्या आपको पता है की प्रेगनेंसी के दौरान आपके चेहरे के हावभाव को देखकर इस बात का अंदाजा लगाया जा सकता है की आप एक राजकुमार को जन्म देने वाली हैं या फिर एक राजकुमारी को। सालों पुरानी मान्यता के अनुसार प्रेगनेंसी के दौरान आपका बाल कमजोर होना और चेहरे पर फुंसी आना इस बात की ओर इशारा करते हैं की आपके गर्भ में एक बेटा है। लेकिन अगर आपके बाल सुंदर दिखने लगे और चेहरे पर चमक आ जाए तो आप एक बेटी को जन्म देने वाली हैं।

दिल की धड़कन 

आप अपने शिशु के दिल की धड़कन की मदद से भी इस बात पता लगा सकती हैं की वो एक लड़का है या लड़की। गर्भ में मौजूद शिशु का दिल एक मिनट में 140 बार से कम धड़कना इस बात की ओर इशारा करता है की आप एक लड़के को जन्म देने वाली हैं। वहीं अगर दिल की धड़कन एक मिनट में 140 बार से ज्यादा धड़के तो इसका मतलब यह हुआ की आपके घर में एक खूबसूरत नन्ही परी आने वाली है।

निष्कर्ष 

गर्भ में पल रहे शिशु के लिंग की जांच करना क़ानूनी तौर पर अपराध है। हमने आपको ऊपर घरेलू तरीकों के बारे में बताया है जिनकी मदद से आप इस बात का अंदाजा लगा सकती हैं की आपके घर में लड़का आने वाला है या लड़की। इन तरीकों की मदद से आप बस अंदाजा लगा सकती हैं। ये उपाय 100% गारंटी नहीं देते हैं और इनकी विश्वसनीयता भी कम होती है। प्रेगनेंसी से संबंधित किसी भी तरह की कोई समस्या होने पर स्त्री-रोग विशेषज्ञ से मिलना चाहिए।  bethany-beck-ESa4pyReF5w-unsplash

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button