आयुर्वेदआयुर्वेद

Ginseng : जिनसेंग क्या है? जानिए जिनसेंग के फायदे, उपयोग और नुकसान

Ginseng जिनसेंग क्या है जानिए जिनसेंग के फायदे, उपयोग और नुकसान (2)
जिनसेंग को चिकित्सीय प्रक्रिया में शताब्दियों से इस्तेमाल किया जाता रहा है। यह एक पौधा है, जिसके डंठल को दवाई बनाने के लिए इस्तेमाल किया जाता है। जिनसेंग के कई प्रकार होते हैं, जैसे- एशियन जिनसेंग, अमेरिकन जिनसेंग, साइबेरियन जिनसेंग आदि। साइबेरियन जिनसेंग (Ginseng) को एडाप्टोजेन भी कहा जाता है। एडाप्टोजेन एक नॉन-मेडिकल टर्म है, जो कि उस चीज को बताने के लिए कहा जाता है जो शरीर को मजबूत बनाए और सामान्य तनाव को दूर रखने में मदद करे।
 
इसका बोटेनिकल नाम एलेउथेरोकोकस संतरीकोस (Eleutherococcus senticosus) है, जो कि अरालियासी (Araliaceae) फैमिली से आता है। इसके अलावा साइबेरियन जिनसेंग को दिल की समस्याओं, डायबिटीज, आर्थराइटिस, फ्लू आदि समस्याओं के लिए उपयोग किया जाता है। जिनसेंग त्वचा के लिए भी काफी फायदेमंद है और यह शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाता है। साइबेरियन जिनसेंग का इस्तेमाल स्किन केयर प्रोडक्ट्स में भी किया जाता है।
 

जिनसेंग का आयुर्वेदिक नाम

वानस्पतिक नाम:

Panax Ginseng, Panax Quinquefolius (अमेरिकी जिनसेंग, एक लुप्तप्राय प्रजाति), Panax repens। परिवार: Araliaceae

दुसरे नाम:

अमेरिकी जिनसेंग, चीनी जिनसेंग, कोरियाई जिनसेंग, मैन-रूट, शिंसेंट

Ginseng Kya Hai

जिनसेंग एक लोकप्रिय जड़ी बूटी है। जिनसेंग का एक सामान्य नाम “मैन-रूट” है। ऐसा इसलिए है क्योंकि जड़ व्यक्ति के आकार का है। इसका पूरे शरीर के लिए लाभ है। औषधीय भाग सूखे मुख्य और पार्श्व जड़ और जड़ बाल से बना है।

जिनसेंग शब्द चीनी रेनशोन से लिया गया है, rénshēn का अर्थ है “person” और shēn का मतलब plant root हैं।

यह चीनी शब्द पौधे की जड़ के वर्णिक कांटे के आकार को दर्शाता है, जो किसी व्यक्ति की जोड़ी के समान होता है। पौधे की टेप की गई जड़ें लगभग 2 से 12 इंच लंबी और एक सांवले रंग कि होती हैं।

Ginseng एक जड़ी बूटी है जिसे Anchi Ginseng, Baie Rouge, Canadian Ginseng,  Ginseng Americano, Ginseng Américain, Ginseng Root, North Ginseng, Ontario Ginseng, Occidental Ginseng के नाम से जाना जाता है।

जिनसेंग को वैकल्पिक चिकित्सा में मधुमेह टाइप 2 के रोगियों में भोजन के बाद रक्त शर्करा को कम करने और श्वसन संक्रमण के लिए एक संभावित प्रभावी सहायता के रूप में उपयोग किया गया है।

जिनसेंग का उपयोग एथलेटिक प्रदर्शन को बेहतर बनाने के लिए भी किया गया है। हालांकि, अनुसंधान से पता चला है कि जिनसेंग इस स्थिति के इलाज में प्रभावी नहीं हो सकता है।

जिनसेंग के उपयोग

साइबेरियाई जिनसेंग किसके लिए उपयोग किया जाता है? साइबेरियायन जिनसेंग का इस्तेमाल कई रोगों के इलाज के लिए किया जाता है, जैसे:

  • उच्च रक्त चाप/ हाई ब्लडप्रेशर
  • कम रक्त चाप/ लो ब्लडप्रेशर
  • धमनियों का सख्त होना (एथेरोस्क्लेरोसिस)
  • वातरोग से पीड़ित ह्रदय रोग 
  • किडनी की बीमारी 
  • अल्जाइमर रोग
  • क्रोनिक फेटीग सिंड्रोम
  • डाइबिटीज
  • अर्थराइटिस
  • फ्लू
  • क्रोनिक ब्रोंकाइटिस
  • टीबी
  • कैंसर कीमोथेरेपी के साइड इफेक्ट
  • एथलेटिक प्रदर्शन
  • नींद की समस्या (अनिद्रा)
  • हरपीज सिंप्लेक्स टाइप-2 के कारण संक्रमण के लक्षण
  • इम्यून सिस्टम को बढ़ाता है
  • सर्दी से बचाव
  • भूख बढ़ाने में
  • मैनुफैक्चरिंग में, साइबेरियन जिनसेंग से स्किन केअर के प्रोडक्ट तैयार किये जाते है

 

जिनसेंग के प्रकार – Types of Ginseng in Hindi

Ginseng  जिनसेंग क्या है जानिए जिनसेंग के फायदे, उपयोग और नुकसान


जैसा कि इस लेख के शुरुआत में बताया गया है कि प्रजातियों के आधार पर जिनसेंग को करीब 11 भागों में विभाजित किया गया है। आइए, उनके बारे में थोड़ा अच्छे से जान लेते हैं।
 

ओरिएंटल जिनसेंग

ओरिएंटल जिनसेंग को पैनेक्स जिनसेंग के नाम से भी जाना जाता है। जिनसेंग का यह प्रकार मूल रूप से चीन और कोरिया से ताल्लुक रखता है। कहा जाता है कि इसे सदियों पहले भारी मात्रा में पाया गया था। बताया जाता है कि लोकप्रियता के कारण यह लगभग विलुप्त होने की कगार पर पहुंच गया था। बाद में इसकी पैदावार के तरीके को खोजा गया। आज यह आसानी से उपलब्ध होने वाला जिनसेंग का एक प्रकार है।
 

वाइल्ड ओरिएंटल जिनसेंग

यह जिनसेंग का एक दुर्लभ प्रकार है, जो आसानी से नहीं मिलता। कहा जाता है कि 221 ईसा पूर्व में सम्राट शोआंगते ने करीब 3,000 से ज्यादा सिपाहियों को इस जड़ी-बूटी की खोज में भेजा था। जिनसेंग का यह प्रकार इतना दुर्लभ है कि करीब 28 ग्राम वाइल्ड ओरिएंटल जिनसेंग की कीमत लगभग 13 लाख रुपये से भी ज्यादा है।
 

कल्टीवेटेड ओरिएंटल जिनसेंग

यह जिनसेंग का एक आम प्रकार है, जो आसानी से उपलब्ध हो जाता है। इसे खेती कर उगाया जाता है। इस कारण पूरे अमेरिका में इसकी खरीद-फरोख्त सस्ते दामों पर होती है।
 

व्हाइट जिनसेंग

पूरी तरह से प्राकृतिक रंग होने के कारण जिनसेंग के इस प्रकार को व्हाइट जिनसेंग के नाम से पुकारा जाता है। कटाई और धुलाई के बाद जब जिनसेंग को सुखाया जाता है, तो यह सुर्ख सफेद रंग ले लेता है और यही इसकी पहचान है।
 

रेड जिनसेंग

यह जिनसेंग का वह प्रकार है, जिसे लंबे समय तक सुरक्षित रखने के लिए भाप और ताप से गुजारा जाता है। इस कारण यह लाल रंग में परिवर्तित हो जाता है। दावा किया जाता है कि व्हाइट जिनसेंग के मुकाबले रेड जिनसेंग अधिक प्रभावकारी साबित होता है।
 

अमेरिकन जिनसेंग

जिनसेंग का यह प्रकार खासतौर से अपालाचियन पर्वतीय क्षेत्र में मौजूद जंगलों में पाया जाता है।
 

वाइल्ड अमेरिकन जिनसेंग

जिनसेंग का यह प्रकार अपने आप ही पैदा होता है। यह खासकर उन अमेरिकी जंगलों में ज्यादा पाया जाता है, जहां पेड़ों की मजबूत लकड़ियां छाया में रहती हैं।
 

वुड्स-ग्रोन अमेरिकन जिनसेंग

जिनसेंग के इस प्रकार को उगाने के लिए प्राकृतिक माहौल का सहारा लिया जाता है। इनकी पैदावार जंगलों में ही की जाती है। बेहतर परिणामों के लिए खेती वाली जगह पर अलग से मिट्टी लाकर डाली जाती है।
 

कल्टीवेटेड अमेरिकन जिनसेंग

जिनसेंग के इस प्रकार की खेती कृत्रिम शेड में की जाती है। इनके बढ़ने के लिए पेड़ों की छाया वाले स्थान का उपयोग किया जाता है। बता दें कि कनाडा में इस प्रकार के जिनसेंग की खेती काफी मशहूर है।
 

साइबेरियन जिनसेंग

जिनसेंग का ऐसा प्रकार, जो वाकई में जिनसेंग नहीं है। यह सिर्फ जिनसेंग के नाम से बाजार में उपलब्ध है। यह पौधा जिनसेंग से मिलता-जुलता है। इसमें जिनसेंग जैसे एडाप्टोजेनिक गुण शामिल रहते हैं। साथ ही यह सामान्य जिनसेंग के मुकाबले काफी सस्ता है।
 

वाइल्ड रेड अमेरिकन (डेसर्ट) जिनसेंग

यह देसी अमेरिकी पौधा है। इसे कैनिग्रे या रुमेक्स कहा जाता है। इसका अनुचित तरीके से उपयोग जहरीला और घातक साबित हो सकता है।प्रकारों से अच्छी तरह अवगत होने के बाद अब आगे के लेख में हम जिनसेंग के फायदे जानने की कोशिश करेंगे।
 
 

जिनसेंग के फायदे – Benefits of Ginseng in Hindi

तो आइए स्वास्थ्य और सौन्दर्य को प्रभावित करने वाले जिनसेंग के फायदे और नुकसान को जानें.
 

पीरियड्स के दौरान

महिलाओं को पीरियड्स के दौरान कई तरह की परेशानियों का सामना करना पड़ता है. इन परेशानियों को जिनसेंग की सहायता से कम किया जा सकता है. जैसे कि इस दौरान होने वाले सूजन या ऐंठन को जिनसेंग कम करता है. ये मूड को भी स्विंग करता है
संज्ञानात्मक क्षमता बढ़ाने में
संज्ञानात्मक क्षमता जैसे कि एकाग्रता, याद्दाश्त आदि को बढ़ाने में जिनसेंग की भूमिका महत्वपूर्ण है. यही नहीं इसके नियमित सेवन से आप न्यूरल गतिविधि भी बढ़ा सकते हैं. जिनसेंग में मौजूद एंटीऑक्सीडेंट मस्तिष्क में पट्टिका और फ्री रेडिकल्स का बनना कम करता है. इससे कई तरह से संज्ञानात्मक विकार दूर होते हैं
 

कैंसर के उपचार में

कोलेरेक्टल कैंसर के खतरे को कम करने में इसकी भूमिका कई शोधों में साबित हुई है. जिनसेंग का नियमित सेवन कोलेरेक्टल कैंसर को फ़ैलने से रोक सकता है. जिनसेंग पर किए गए प्रारंभिक शोध इसमें एंटीट्यूमर गुण भी दिखाते हैं


शुगर का उपचार जिनसेंग से

आज शुगर से बचने या इसे कम करने के कई तरीके मौजूद हैं. इन सभी तरीकों में जिनसेंग को सबसे बढ़िया आयुर्वेदिक उपचार बताया जाता है. इसके लिए जिनसेंग का इस्तेमाल खाली पेट या खाने के बाद भी कर सकते हैं. इसके सेवन से रक्त शर्करा के स्तर को प्रभावी तरीके से कम किया जा सकता है
 

मानसिक अवसाद से राहत

जिनसेंग उपापचय को उत्तेजित करके और ऊर्जा के स्तर को बढ़ाकरके तंत्रिकातंत्र को प्रभवित करता है. इससे मानसिक अवसाद जैसे कि तनाव या चिंता ख़त्म होती है. इसके अलावा जिनसेंग में एडाप्टोजेन नामक तत्व भी पाया आता है जो कि हार्मोनल स्तर को बदलने की क्षमता रखता है. इससे तनाव में कमी और मूड में बेहतरी आती है
 

उम्र का बढ़ना भी रोके

जिनसेंग में एंटीऑक्सीडेंट की प्रचुरता होती है जिससे कि पुरे शरीर में फ्री रेडिकल्स के नकारात्मक प्रभाव कम होता है. आपको बता दें कि फ्री रेडिकल्स सेलुलर उपापचय के खतरनाक उप उत्पाद होते हैं. ये स्वस्थ कोशिकाओं को नुकसान पहुंचा सकते हैं
 

स्तंभन दोष का उपचार

चीनी आयुर्वेदिक चिकित्सा में यौन समस्याओं के निदान के लिए जिनसेंग का इस्तेमाल किया जाता है. इसका कारण ये है कि ये एक प्रभावशाली कामोद्दीपक है. कोरियाई लाल जिनसेंग यौन कार्यों में प्रोत्साहन के लिए इस्तेमाल किया जाता है
 

वजन कम करने में

जिनसेंग में कई ऐसे रसायन पाए जाते हैं जो कि भूख को दबा सकता है. खासकरके ड्राई जिनसेंग पाउडर किसी भी तरह के खाने की लालसा को ट्रिगर करके भूख के हार्मोन को दबाता है. जिससे आपको अपना वजन कम करने में मदद मिलती है
 

त्वचा की देखभाल

हमारे शरीर में रक्तसंचार को जिनसेंग उत्तेजित करता है. खासकरके त्वचा कोशिकाओं में इसका ज्यादा असर देखने को मिलता है. इसमें उपापचय को उत्तेजित और सक्रीय करने वाले फैटोन्यूट्रीयंस पाए जाते हैं. इसमें मौजूद एंटीऑक्सीडेंट भी त्वचा के स्वास्थ्य के लिए लाभकारी है. जिनसेंग चाय आपके त्वचा को आपकी त्वचा को टोंड और हाइड्रेट करती है. ये ऑक्सीजन की आपूर्ति में वृद्धि करके त्वचा कोशिकाओं को पुनर्जीवित करता है
 

बालों के लिए फायदेमंद

बालों की विभिन्न समस्याएं मसलन रुसी, बालों का गिरना और गंजेपन आदि में जिनसेंग काफी फायदेमंद है. क्योंकि जिनसेंग में प्राकृतिक कार्बोहाइड्रेट पाया जाता है. कई शोधों में देखा गया है कि जिनसेंग बालों के समग्र देखभाल के लिए बहुत प्रभावी साबित होता है.



जिनसेंग के नुकसान – Side Effects of Ginseng in Hindi

जिन्सेंग का अत्यधिक सेवन आपको सरदर्द, नींद की समस्या और पेट में गड़बड़ी जैसे परेशानियाँ दे सकता है
ये काफी शक्तिशाली बूटी है इसलिए ये शरीर में नकारात्मक प्रतिक्रियाओं का कारण बन सकता है
बेहतर तो यही होगा कि इसका सेवन किसी चिकित्सक के परामर्श से ही करें
 


निष्कर्ष – Conclusion 

जिनसेंग ऐसी आयुर्वेदिक जड़ी-बूटी है, जिसके सेवन से शरीर को स्वस्थ रखा जा सकता है। यहीं नहीं जिनसेंग के फायदे भी कई हो सकते हैं, जिसके बारे में हमने ऊपर लेख में बताया है। हां, अगर कोई गंभीर समस्या से जूझ रहा है, तो इसका सेवन करने से पहले डॉक्टर की सलाह जरूरी लेनी चाहिए। हम उम्मीद करते हैं कि इस लेख में दी गई सभी जानकारी आपके काम आएगी। इसी तरह की और जड़ी-बूटियों के बारे में जानने के लिए आप हमारे अन्य आर्टिकल पढ़ सकते हैं।
 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button