Notifications
×
Subscribe
Unsubscribe
हेल्थ

लौंग के फायदे और नुकसान

Read in English

लौंग के फायदे और नुकसान, लौंग से ज्यादातर लोगों को परिचित होना चाहिए। कई मौकों पर लौंग का सेवन भी किया होगा। लोग जानते हैं कि लौंग के सेवन से फायदे होते हैं या फिर लौंग का इस्तेमाल फायदेमंद होता है, लेकिन सच तो यह है कि लौंग के सेवन से होने वाले कई फायदों के बारे में बहुत से लोगों को पता भी नहीं होता है। इसी वजह से लोग लौंग का इस्तेमाल चंद चीजों में ही करते हैं।

आयुर्वेदिक ग्रंथों में लौंग के इस्तेमाल से जुड़े कई उपायों का जिक्र किया गया है। लौंग के सेवन से भूख बढ़ती है, उल्टी बंद होती है, पेट की गैस, अधिक प्यास की समस्या और कफ-पित्त दोष दूर होता है। इसके साथ ही रक्त विकार, श्वास रोग, हिचकी और क्षय रोग में भी लौंग के प्रयोग से आपको लाभ मिल सकता है। जानकारों के मुताबिक लौंग पुरुषों के लिए फायदेमंद मानी जाती है। आइए जानते हैं लौंग के फायदों के बारे में विस्तार से।

लौंग क्या है? (लौंग क्या है?)

लौंग के पेड़ पर लगभग 9 साल की उम्र में फूल आने लगते हैं। इसके फूलों की कलियों को सुखाकर बाजार में लौंग के नाम से बेचा जाता है। गर्भवती महिलाओं को होने वाली उल्टी में लौंग बहुत फायदेमंद होती है। लौंग के फायदे या कुछ खास गुण इस प्रकार हैं:-

  • लौंग के सेवन से भूख बढ़ती है। पेट की रस क्रिया सही रहती है।
  • भोजन में रुचि होती है और मन प्रसन्न हो जाता है।
  • लौंग पेट के कीड़ों को मारती है।
  • यह चेतना-शक्ति को ठीक रखता है।
  • यह शरीर की दुर्गंध को दूर करता है।
  • घाव पर लगाने से दर्द, रोग दूर हो जाते हैं।
  • लौंग यूरिनरी ट्रैक्ट को सही रखता है और हानिकारक चीजों को पेशाब के जरिए बाहर निकालने में मदद करता है।

विभिन्न भाषाओं में लौंग के नाम

लौंग का वानस्पतिक नाम सिज़ीगियम एरोमैटिकम (लिनन।) मेर एंड एलएम पेरी (साइगियम एरोमैटिकम) सिन-यूजेनिया कैरियोफिलाटा थुनब।, कैरियोफिलस एरोमैटिकस लिन। और यह Myrtaceae (Myrtaceae) परिवार से संबंधित है। लौंग को देश-विदेश में कई नामों से जाना जाता है, जो इस प्रकार हैं:-

लौंग में –

  • हिन्दी (हिंदी में लांग) , लांग, लौंग, लवंग
  • अंग्रेजी (एल) अवांगा अंग्रेजी में), लौंग, ज़ांज़ीबार लाल सिर, लौंग का पेड़, लौंग
  • संस्कृत लवंग, देवकुसुम, श्रीप्रसून, श्रीसंज्ञ, श्रीप्रसूनाका, वरिजो
  • उर्दू – लवंगी
  • कन्नड़ – लवंगा, रुंगु
  • गुजराती – प्यारा
  • तेलुगु – करवाप्पु, लवंगमु
  • तमिल (सी) तमिल में प्यार): किरंबू, किरमपु
  • बंगाली – लवंगी
  • नेपाली – ल्वांग
  • मराठी – लवंगी
  • मलयालम लौंग, ग्रम्पू, करयमपु
  • अरबी – कर्णफल, कर्णफुली
  • फ़ारसी मेखत, मेखाकी

लौंग के फायदे और उपयोग

ये हैं औषधीय उपयोग और उपयोग के तरीके और उपयोग के तरीके:-

सिरदर्द और माइग्रेन में सिरदर्द से राहत दिलाने में लौंग के फायदे

आप लौंग के लाभ (Lऑन के इंटरैक्शन) सिरदर्द की समस्या में ले सकते हैं। यदि कोई रोगी माइग्रेन से पीड़ित है या अन्य प्रकार के सिरदर्द की समस्या से परेशान है तो लौंग का प्रयोग लाभकारी होता है। इसके लिए 6 ग्राम लौंग को पानी में पीसकर सुखा लें। इसे थोड़ा गर्म करें। सिर दर्द या माइग्रेन की समस्या में इसका गाढ़ा पेस्ट कान के आसपास लगाने से लाभ होता है।

2 लौंग और 65 मिलीग्राम अफीम को पानी के साथ पीसकर गर्म कर लें। इसे माथे पर लगाने से सर्दी के कारण होने वाले सिरदर्द से राहत मिलती है।

लौंग के फायदे नेत्र रोग को दूर करने में

लौंग को तांबे के बर्तन में पीस लें। इसे शहद में मिलाकर आंखों में लगाने से आंखों के रोग में लाभ होता है।

दंत रोग में लंबे समय तक लाभ

दांतों के रोगों में भी लौंग बहुत फायदेमंद होती है। रुई के फाहे में लौंग का तेल लगाकर दांतों पर लगाएं। इससे दांत दर्द में आराम मिलता है। इससे दांतों के कीड़े भी मर जाते हैं।

बलगम की समस्या में लौंग फायदेमंद होती है।

2 ग्राम पिसी हुई लौंग के चूर्ण को 125 मिलीलीटर पानी में उबाल लें। जब यह एक चौथाई रह जाए तो इसे छान लें और थोड़ा गर्म करके पी लें। यह कफ को बाहर निकालने में मदद करता है।

मुंह से दुर्गंध के इलाज में लौंग के फायदे

लौंग को मुंह में रखने से सांसों की दुर्गंध और सांसों की दुर्गंध दूर होती है।

मुंह से सांसों की बदबू

अस्थमा से लड़ने में लंबे समय तक लाभ

लौंग के फायदे अस्थमा में भी मिलते हैं। लौंग, अंजीर के फूल और काला नमक बराबर मात्रा में लें। इन्हें पीसकर चने के आकार का गोला बना लें। इसे मुंह में रखने से दमा और श्वास संबंधी विकार दूर होते हैं।

लौंग (लौंग के फायदे खांसी के रोग में)

3-4 लौंग को आग पर भूनकर पीस लें। इसे शहद में मिलाकर चाटने से काली खांसी में आराम मिलता है।

हैजा में फायदेमंद लौंग का प्रयोग

हैजा के कारण बहुत ज्यादा प्यास लगने की समस्या भी होती है। इस समस्या में लौंग खाने से काफी लाभ मिलता है। एक या डेढ़ ग्राम लौंग को करीब डेढ़ लीटर पानी में उबाल लें। 2-3 उबाल आने के बाद इसे उतार कर ढक दें। इस पानी के 20-25 मिलीलीटर को बार-बार पीने से हैजा की अत्यधिक प्यास की समस्या समाप्त हो जाती है।

अपच की समस्या में लौंग के सेवन के फायदे

1 ग्राम लौंग और 3 ग्राम हरड़ को मिलाकर काढ़ा बना लें। इसमें थोड़ा सा सेंधा नमक मिलाकर पीने से अपच की समस्या दूर हो जाती है।

मतली के इलाज में लौंग के फायदे

अगर आपको मिचली आ रही है तो लौंग के फायदे लें। लौंग को पानी के साथ पीसकर थोड़ा गर्म कर लें। इसे थोड़ा-थोड़ा करके देने से जी मिचलाना और ज्यादा प्यास लगना की समस्या दूर हो जाती है।

बुखार से लड़ने में लंबे समय के लाभ

लौंग और छोटी पिप्पली को बराबर मात्रा में लेकर पीस लें। इस चूर्ण को 1½ ग्राम की मात्रा में शहद में मिलाकर सुबह-शाम चाटने से बुखार और बुखार के कारण होने वाली शारीरिक कमजोरी में लाभ होता है।

लौंग और चिरायता को बराबर भाग में लें। इसे पानी में पीसकर पीने से बुखार में लाभ होता है।

पेट की गैस की समस्या में लौंग के फायदे

10 ग्राम लौंग, 10 ग्राम सोंठ, अजवायन और 10 ग्राम सेंधा नमक और 40 ग्राम गुड़ को पीस लें। इसकी 325-325 मिलीग्राम की गोलियां बना लें। 1 गोली दिन में 2-3 बार लेने से पेट में गैस की समस्या दूर होती है।

पेट की बीमारी के इलाज में लौंग के फायदे

  • लौंग (लवंग), शुंथि, मिर्च, पीपल, 10 ग्राम अजवायन, 50 ग्राम सेंधा नमक और 50 ग्राम मिश्री का बारीक चूर्ण बना लें। इन्हें चीनी मिट्टी के बर्तन में रखें और इतना नींबू का रस डालें कि पूरा पाउडर नींबू के रस में डूब जाए। इसे धूप में सुखा लें। भोजन के बाद एक चम्मच इसका सेवन करने से मुंह के स्वाद में सुधार होता है। इससे अपच और खट्टी डकार की समस्या ठीक हो जाती है।
  • 1-2 ग्राम लौंग को मसल लें। इसे 100 मिलीलीटर पानी में मिलाकर काढ़ा बना लें। जब काढ़ा 20-25 मिलीलीटर रह जाए तो उसे छानकर ठंडा करके पी लें। यह हैजा और अपच की समस्या में लाभकारी होता है।
  • लौंग या लौंग के तेल का काढ़ा बनाकर पीने से गैस की समस्या तुरंत दूर हो जाती है।
  • जायफल, लौंग और जीरा बराबर मात्रा में लें। इनका पाउडर बना लें। इसे 2-3 ग्राम की मात्रा में लेकर शहद और चीनी के साथ सेवन करें। इससे पेट का दर्द ठीक हो जाता है।
  • 1 लीटर उबलते पानी में 10 ग्राम लौंग का पाउडर डालकर ढक दें। आधे घंटे बाद छान लें। 25-50 मिलीलीटर पानी दिन में तीन बार लेने से अपच दूर होती है और भूख लगती है।
  • लौंग, सोंठ, 10-10 ग्राम और 12-12 ग्राम अजवायन और सेंधा नमक का चूर्ण बना लें। इसे भोजन के बाद 1 ग्राम की मात्रा में पानी के साथ लें। यह अपच और एसिडिटी की समस्या को दूर करता है।

उल्टी रोकने के लिए लौंग का प्रयोग (गर्भवती महिलाओं की उल्टी)

गर्भवती महिलाओं में उल्टी होना आम बात है। खास बात यह है कि इस दौरान लौंग खाने से उल्टी रोकने में काफी फायदा मिलता है। इससे गर्भवती महिलाओं को काफी आराम मिलता है। 1 ग्राम लौंग के चूर्ण को चाशनी और अनार के रस में मिलाकर चाटें। इससे गर्भवती महिलाओं को होने वाली उल्टी बंद हो जाती है।

लौंग का काढ़ा पीने से गर्भवती महिला की उल्टी बंद हो जाती है। ध्यान रहे कि इस काढ़े को बुखार में न दें।

लौंग यौन क्षमता को बढ़ाती है

लौंग और जायफल को घिसकर नाभि पर लगाने से पुरुष की नपुंसकता (संभोग करने की क्षमता) बढ़ती है।

लौंग गठिया में फायदेमंद

आप गठिया जैसे रोग में भी लौंग का सेवन कर सकते हैं। गठिया में लौंग का तेल फायदेमंद होता है। इसे प्रभावित क्षेत्र पर लगाएं। यह लाभ देता है।

लौंग के छिलके को ऊष्नोदक के साथ पीसकर लेप करने से वात दोष के दर्द में आराम मिलता है।

गाउट

इलाज नासूर में लौंग के फायदे

5-6 लौंग और 10 ग्राम हल्दी को पीसकर लेप करने से नासूर (पुराने घाव) ठीक हो जाते हैं।

लौंग नाराज़गी को ठीक करता है

बहुत से लोग सीने में जलन की समस्या से परेशान रहते हैं। इसमें भी लौंग का सेवन किया जा सकता है। 2-4 पीस लें। ठंडे पानी में लौंग। इसमें मिश्री मिलाकर पीने से नाराज़गी दूर होती है।

दस्त रोकने के लिए करें लौंग का इस्तेमाल

1 ग्राम लौंग और 3 ग्राम हरड़ को मिलाकर काढ़ा बना लें। इसमें थोड़ा सा सेंधा नमक मिलाकर पीने से दस्त बंद हो जाते हैं।

जायफल, लौंग और जीरा बराबर मात्रा में लें। इनका पाउडर बना लें। इसे 2-3 ग्राम की मात्रा में लेकर शहद और चीनी के साथ सेवन करें। यह दस्त को ठीक करता है।

मधुमेह में लौंग के फायदे

लौंग का सेवन करने से आपको मधुमेह में फायदा हो सकता है क्योंकि यह ब्लड शुगर को नियंत्रित करने में मदद करता है।

सूजन से राहत पाने के लिए फायदेमंद है लौंग

लौंग का तेल सूजन को कम करने में मदद करता है क्योंकि इसमें एंटी-इंफ्लेमेटरी गुण होते हैं जो सूजन को कम करने में मदद करते हैं।

पाचन तंत्र को बनाएं मजबूत (लौंग के फायदे पाचन तंत्र को बेहतर बनाने में)

अगर आपका पाचन तंत्र कमजोर है तो लौंग का सेवन आपके लिए फायदेमंद हो सकता है, क्योंकि आयुर्वेद के अनुसार लौंग में प्रकाश और पाचन के गुण होते हैं।

लौंग कैंसर के इलाज के लिए फायदेमंद

कैंसर

लौंग का इस्तेमाल कैंसर के लक्षणों को कम करने में फायदेमंद होता है, क्योंकि इसमें कैंसर रोधी गुण होते हैं।

तनाव से राहत पाने के लिए फायदेमंद है लौंग

लौंग का तेल तनाव को कम करने में मदद करता है क्योंकि यह संचार प्रणाली को उत्तेजित करता है और शारीरिक थकान को कम करके तनाव से राहत देता है।

सिरदर्द के इलाज के लिए लौंग के फायदे

अगर आप सिर दर्द से परेशान हैं तो लौंग का तेल सिरदर्द को कम करने में मदद करता है।

दमा के इलाज में फायदेमंद है लौंग

लौंग का सेवन अस्थमा या खांसी संबंधी समस्याओं में लाभ के लिए किया जा सकता है क्योंकि आयुर्वेद के अनुसार लौंग में कफ को दूर करने का गुण होता है।

जी मिचलाना कम करने में लौंग के फायदे (मतली में फायदेमंद लौंग)

अगर आपको यात्रा के दौरान जी मिचलाना या उल्टी की समस्या है और किसी और कारण से तो आप लौंग का इस्तेमाल कर सकते हैं क्योंकि इसमें एंटी-इमेटिक गुण होते हैं।

गठिया से राहत पाने के लिए लौंग के फायदे

जोड़ों के दर्द की समस्या में भी लौंग फायदेमंद होती है क्योंकि आयुर्वेद में लौंग को दर्द निवारक माना गया है, जिससे जोड़ों के दर्द में लौंग का तेल फायदेमंद होता है।

लौंग का फायदेमंद हिस्सा

फूल कलियां

लौंग का पौधा

लौंग का सेवन कितना करें?

पाउडर – 1-2 ग्राम

लौंग का तेल – 1-3 बूँद

अधिकतम लाभ के लिए डॉक्टर की सलाह के अनुसार लौंग का प्रयोग करें।

लौंग कहाँ पाई जाती है या उगाई जाती है? (लौंग कहाँ पाया जाता है या उगाया जाता है?)

लौंग का उद्गम मलक्का द्वीप है, लेकिन इसकी खेती भारत के दक्षिण में केरल और तमिलनाडु में की जाती है। भारत में ज्यादातर लौंग सिंगापुर से आयात की जाती है।

Read in English

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button