Notifications
×
Subscribe
Unsubscribe
फल-फ्रूट

मेथी के फायदे और नुकसान मेथी दाना के फायदे

Read in English

मेथी के बारे में तो आप जानते ही होंगे। इसे मिथिका भी कहते हैं। मेथी का इस्तेमाल हर घर में होता है। मेथी के पत्तों का साग लोगों को बहुत पसंद आता है। मेथी की चटनी बहुत से लोगों को पसंद होती है। मेथी के बीज का उपयोग साबुन और सौंदर्य प्रसाधन बनाने के लिए किया जाता है। इसके अलावा मेथी के कई फायदे भी होते हैं। क्या आप जानते हैं कि मेथी का प्रयोग औषधि के रूप में किया जाता है (मेथी के लड्डू के इंटरैक्शन) इसका उपयोग के रूप में भी किया जाता है, और मेथी से होने वाले लाभों का उपयोग रोगों के इलाज के लिए किया जाता है?

आयुर्वेद में बताया गया है कि मेथी कई बीमारियों की दवा भी है। इसके बीजों का उपयोग मसाले के साथ-साथ औषधि के रूप में भी किया जाता है। मेथी के लड्डू विशेष रूप से गांवों में गर्भवती महिलाओं को दिए जाते हैं। मेथी और मेथी का तेल (मेथी का तेल) इसमें मधुमेह को नियंत्रित करने और गांठ बनने से रोकने के गुण होते हैं। आइए जानते हैं मेथी के फायदे जानते हैं (मेथी के इंटरैक्शन) मैं कैसे ले सकता हूँ

मेथी क्या है?

मेथी का पौधा साल में एक बार उगाया जाता है। पौधे की ऊंचाई लगभग 2-3 फीट लंबी होती है। पौधे में छोटे फूल लगते हैं। इसकी फली मूंग दाल की तरह होती है। इसके बीज बहुत छोटे होते हैं। यह स्वाद में कड़वा होता है।मेथी के पत्ते हल्के हरे रंग के और फूल सफेद रंग के होते हैं। इसकी फली में तेज गंध वाले 10 से 20 छोटे, पीले-भूरे रंग के बीज होते हैं। इन बीजों का उपयोग कई रोगों में किया जाता है। इसकी एक और प्रजाति है, जिसे वन मेथी कहा जाता है। यह निम्न गुणवत्ता का है। इसका उपयोग पशुओं के चारे के रूप में किया जाता है।

अन्य भाषाओं में मेथी का नाम विभिन्न भाषाओं में

मेथी का वानस्पतिक नाम ट्रिगोनेला फेनम ग्रेकेम (ट्राइगोनेला फेनम-ग्रेकेम लिनन। और सिन-ट्रिगोनेला टिबेटाना (एलेफ।) वासिल्ज़।) है। यह कल्पना (Fabaceae) कुल का पौधा है। अंग्रेजी और विभिन्न भारतीय भाषाओं में इसका नाम इस प्रकार है:-

मेथी में –

  • अंग्रेज़ी – मेंथी
  • अंग्रेज़ी – मेथी, ग्रीक घास, ग्रीक तिपतिया घास
  • संस्कृत मेथी, मेथी, मेथी, दीपानी, बहुपत्रिका, बोधिनी, बाहुबिज, ज्योति, गंडफला, वल्लारी, चंद्रिका, मंथा, मिशापुष्पा, कैरवी, कुंचिका, बहुपत्ती, पिटबीजा, मुनिचड़ा
  • ओरिया – मेंथी
  • असमिया – मेंथी
  • कन्नड़ – मेंथे, मेंटे
  • गुजराती – मेथी, मेथी
  • तमिल – मेंटुलु, वंदयम्
  • तेलुगु – मेंटिकुरा (मेंटिकुरा); मेंटुलु
  • बंगाली – मेथी, मेथी
  • नेपाली – मेंथी
  • पंजाबी – मेथी, मेथी (मेथी)
  • मराठी – मेंथी
  • मलयालम उल्लव, उलुवा
  • मणिपुरी – मेंथी
  • अरबी – हिलबेह, हुलबाही

मेथी के फायदे और उपयोग

मेथी के फायदे (मेथी के इंटरैक्शन) नीचे दिए गए हैं:-

बालों को झड़ने से रोकने में फायदेमंद है मेथी के औषधीय गुण

मेथी के फायदे से बालों का झड़ना रोका जा सकता है। इसके लिए 1-2 चम्मच मेथी दाना रात भर भिगो दें। सुबह इसे पीसकर बालों की जड़ों में लगाएं। एक घंटे बाद बालों को धो लें। हफ्ते में दो से तीन बार लगाने से बाल झड़ना (बालों के लिए मेथी दाना के फायदे) बंद हो जाता है।

बालों के झड़ने में मेथिका के बीज के फायदे

कान बहने के इलाज के लिए मेथिका बीज के लाभ

कान बहने के रोग में मेथी का सेवन किया जा सकता है। दूध में मेथी दाना पीस लें। इसे छान कर तैयार कर लें। इस रस को गर्म या गुनगुना करके 1-2 बूंद कान में डालें। इससे कान से खून आना बंद हो जाता है।

हृदय रोग में मेथी खाने के फायदे

  • एंटीऑक्सीडेंट गुणों के कारण मेथी हृदय रोग के लिए फायदेमंद है। इससे ब्लड सर्कुलेशन सही रहता है। मेथी में घुलनशील फाइबर होता है जो हृदय रोग के खतरे को कम करता है। दिल को स्वस्थ रखने के लिए मेथी के 10-15 मिलीलीटर काढ़े में शहद मिलाकर पीएं।
  • मेथी के बीज खराब कोलेस्ट्रॉल को भी कम करते हैं। मेथी के दानों के चूर्ण का रोजाना सेवन करने से खराब कोलेस्ट्रॉल (मेथिका लाभ) कम होता है।

पेट की बीमारी में मेथी खाने के फायदे

कब्ज दूर करने में मेथी दाना बहुत फायदेमंद होता है। मेथी, चंद्रसूर, मंगरेला (कलौंजी) और अजवायन का रोजाना सेवन करें। यह गैस, अपच, पेट दर्द, भूख न लगना, पेट फूलना, पेट दर्द और पीठ दर्द से संबंधित रोगों में लाभकारी है।

पेट की समस्या से राहत पाने के लिए मेथी के फायदे

मेथी के सेवन से कब्ज से लड़ने में फायदेमंद है मेथी

मेथी के औषधीय गुण कब्ज में लाभकारी होते हैं। अगर आप कब्ज से परेशान हैं तो मेथी के पत्तों का साग बनाकर खाएं। यह कब्ज की समस्या से निजात दिलाता है। मेथी मल को नरम करती है और कब्ज को ठीक करती है।

उल्टी रोकने के लिए मेथी के औषधीय गुण

उल्टी की समस्या में मेथी के औषधीय गुण फायदेमंद होते हैं। अगर आप बार-बार होने वाली उल्टी से परेशान हैं तो मेथी के दानों का चूर्ण लें। इससे उल्टी बंद हो जाती है। उपाय करने से पहले कृपया किसी आयुर्वेदिक चिकित्सक से सलाह लें।

ब्लड शुगर कंट्रोल करने में हैं मेथी के औषधीय गुण (मेथिका पाउडर के फायदे ब्लड शुगर लेवल को कंट्रोल करने के लिए)

  • आप मेथी के लाभ (मेथी के इंटरैक्शन) मधुमेह में भी ले सकते हैं। मेथी के नियमित सेवन से रक्त में शर्करा की मात्रा नियंत्रित रहती है।
  • एक चम्मच मेथी दाने का पाउडर बना लें। इसे रोज सुबह खाली पेट गुनगुने पानी के साथ लें।
  • मेथी के दानों को रोजाना पानी में भिगो दें। सुबह इसे चबाकर खा लें। ऊपर से मेथी दाना का पानी पिएं।

मेथी पानी

पेचिश में मेथी के फायदे (मेथिका बीज के फायदे पेचिश को रोकने के लिए हिंदी में)

  • मेथी का उपयोग पेचिश के इलाज के लिए किया जा सकता है। इसके लिए 5 ग्राम मेथी दाना घी में भून लें. इसे खाने से दस्त में लाभ होता है।
  • मेथी दाना को भून कर काढ़ा बना लें। पेचिश में 15-20 मिलीलीटर काढ़ा पीने से लाभ होता है।
  • यदि आप लंबे समय से दस्त से पीड़ित हैं तो 1-2 ग्राम मेथी के चूर्ण को छाछ में मिलाकर सेवन करने से लाभ होता है।

प्रेग्नेंसी के बाद महिलाओं के लिए फायदेमंद है मेथी

  • प्रसव के बाद मेथी के औषधीय गुणों से महिलाओं को कई फायदे मिलते हैं। मेथी दाना गर्भवती महिलाओं के स्तनों में दूध बढ़ाता है। मेथी के सेवन से मां के दूध की गुणवत्ता भी बढ़ती है, जिससे बच्चे का स्वास्थ्य भी बेहतर होता है। माताएं मेथी की सब्जी, सूप आदि का सेवन कर सकती हैं।
  • जीरा, सौंफ, सोया, मेथी आदि को गुड़, दूध और गाय के घी में मिलाकर पकाएं। इसे पिला दो। यह योनि, ज्वर, क्षय रोग, खांसी, सांस लेने में तकलीफ, रक्ताल्पता, पतलापन आदि रोगों में लाभकारी है।
  • गैस बनने और गैस से होने वाले रोगों में भी मेथी का सेवन लाभकारी होता है।
  • कसूरी मेथी (मेंथी) इसे रात भर भिगोकर सुबह खाया जाता है।

मासिक धर्म की समस्याओं के लिए मेथी के मासिक धर्म लाभ

  • आज बड़ी संख्या में महिलाएं मासिक धर्म से जुड़ी समस्याओं से जूझ रही हैं। महिलाओं को मासिक धर्म के दौरान पेट में दर्द, अत्यधिक रक्तस्राव जैसी समस्या होने लगती है। मासिक धर्म की प्रक्रिया को एस्ट्रोजन नामक हार्मोन द्वारा नियंत्रित किया जाता है। मेथी के बीज में एस्ट्रोजन के गुण होते हैं, इसलिए यह मासिक धर्म से जुड़ी समस्याओं में फायदेमंद होता है। मेथी के सेवन से खून भी बनता है और दर्द भी कम होता है। मासिक धर्म की समस्या को दूर करने के लिए 1-2 ग्राम मेथी के दानों का सेवन करें।
  • आप मेथी के बीज से बनी चाय भी पी सकते हैं। मेथी की चाय को मीठा बनाएं और इसे थोड़ा ठंडा होने दें। इसमें शहद मिलाएं। अधिक लाभ होगा।

मासिक दर्द

सूजाक के लिए मेथिका के लाभ सूजाक के उपचार के लिए एक आयुर्वेदिक दवा है।

1-2 ग्राम मेथी को गुड़ के चूर्ण में मिलाकर सेवन करने से सूजाक रोग में लाभ होता है।मेथी के इंटरैक्शन) ऐसा होता है। उपाय करने से पहले आयुर्वेदिक चिकित्सक से सलाह अवश्य लें।

घाव भरने के लिए मेथिका के फायदे

  • घाव में मेथी के औषधीय गुण लाभकारी होते हैं। घाव में सूजन हो और जलन भी हो तो मेथी के पत्तों को पीसकर घाव पर लगाएं। इससे घाव की सूजन और जलन दोनों ठीक हो जाती है।
  • मेथी के दानों को पीसकर मुंह के छालों पर मेथी दाना लगाने से लाभ मिलता है।

स्वस्थ लीवर के लिए मेथिका के लीवर लाभ

एक शोध के अनुसार मेथी में एंटी-ऑक्सीडेंट और हेपेटो-प्रोटेक्टिव गुण होते हैं। यह लीवर के लिए भी फायदेमंद होता है।

स्वस्थ जिगर के लिए मेथिका के लाभ

 

तंत्रिका संबंधी विकार को ठीक करने के लिए मेथिका के लाभ

मेथी दाना का चूर्ण 1-2 ग्राम लें। यह तंत्रिका तंत्र से संबंधित विकारों में लाभकारी है। इसके इस्तेमाल से धीरे-धीरे नर्वस सिस्टम की समस्याएं ठीक होने लगती हैं।

शरीर में दर्द होने पर मेथी के औषधीय गुण फायदेमंद होते हैं

मेथी के बीज में दर्द निवारक गुण होते हैं। मेथी का चूर्ण 1-2 ग्राम की मात्रा में लेने से पूरे शरीर का दर्द दूर हो जाता है।

त्वचा रोग के लिए मेथिका लाभ

मेथी के फायदे से आप त्वचा रोगों का भी इलाज कर सकते हैं। मेथी का पेस्ट बना लें। इसे दाद-खुजली-खुजली या एक्जिमा जैसे त्वचा रोगों पर लगाएं। यह लाभ देता है।

त्वचा रोग के लिए मेथिका लाभ

 

सूजन में मेथी के फायदे

  • मेथी इसमें एंटी-इंफ्लेमेटरी (एंटी-इंफ्लेमेटरी) गुण भी होते हैं। किसी भी प्रकार की सूजन होने पर मेथी के पत्तों और बीजों को पीसकर पीस लें।
  • मेथी दाना और जौ के आटे को सिरके के साथ पीस लें। अगर गालों पर सूजन है तो गालों पर पतला पेस्ट लगाएं। यह सूजन को कम करता है (मेथी दाना के इंटरैक्शन)।

गठिया के इलाज के लिए फायदेमंद है गठिया मेथिका

गठिया में भी मेथी फायदेमंद होती है। दरअसल गठिया वात दोष के कारण होता है। मेथी में वात को संतुलित करने के गुण होते हैं। यह गठिया के दर्द को कम करने में मदद करता है। गठिया में मेथी के प्रयोग के बारे में आपको किसी आयुर्वेदिक चिकित्सक से परामर्श लेना चाहिए।

पाचन विकार के लिए मेथिका के लाभ

मेथी में गर्म और हल्के गुण होते हैं। इस कारण यह पाचक अग्नि को बढ़ाकर पाचन तंत्र को मजबूत रखता है। यह भूख बढ़ाने में भी मदद करता है।

ब्लड प्रेशर को नियंत्रित करने में फायदेमंद है मेथी

अगर आपको ब्लड प्रेशर की समस्या है तो आप मेथी का सेवन कर सकते हैं। मेथी में एंटी-हाइपरटेन्सिव गुण होता है जो रक्तचाप को नियंत्रित करने में मदद करता है।

 उच्च रक्त चाप

 

मेथिका के उपयोगी भाग

आप मेथी के पौधे के इन भागों का उपयोग कर सकते हैं:-

पत्तियां

बीज

मेथी का उपयोग कैसे करें?

  • मेथी दाना काढ़ा – 10-20 मिली
  • मेथी दाना पाउडर – 1-2 ग्राम

अधिकतम लाभ के लिए आयुर्वेदिक चिकित्सक की सलाह के अनुसार मेथी का प्रयोग करें।

मेथी के नुकसान दुष्प्रभाव

मेथी भी कर सकती है नुकसान:-

  • उल्टी
  • दस्त
  • मधुमेह की दवाओं के साथ इसका प्रयोग सावधानी से करें। यह शुगर लेवल को कम कर सकता है।

मेथी कहाँ पाई जाती है या उगाई जाती है?

मेथी की खेती भारत के सभी राज्यों में की जाती है। मेथी की खेती मुख्य रूप से ऊपरी गंगा के मैदानों और कश्मीर और पंजाब में की जाती है। इसकी खेती विशेष रूप से भूमध्यसागरीय, दक्षिणी यूरोप और पश्चिमी एशिया में की जाती है। इसके सुगंधित बीजों के कारण चीन में इसकी खेती की जाती है। इसकी खेती अफ्रीका में पशुओं के चारे के लिए की जाती है।

Read in English

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button