प्रेगनेंसी

pregnancy me urine infection in hindi// प्रेग्नेंसी के नौवें महीने में बार बार पेशाब आना

bethany-beck-ESa4pyReF5w-unsplash
बार-बार पेशाब आना गर्भावस्था की प्रमाणित विशेषता है। आप पाएंगी कि गर्भवती होने पर आपको बहुत ज्यादा पेशाब आ रहा है, खासकर कि पहली और अंतिम तिमाही में।
 
वास्तव में, यह गर्भवती होने के पहले कुछ संकेतों में से एक है। यह शरीर में हो रहे हॉर्मोनल बदलावों का ही हिस्सा है।
 
गर्भावस्था के अंतिम चरण में, आपका बढ़ा हुआ गर्भाशय मूत्राशय की क्षमता को घटा देता है, और लगता है कि आप ज्यादा पेशाब का उत्पादन कर रही हैं। आपका मूत्राशय खाली होने पर भी, इस पर पड़ रहा दबाव इसके भरे होने का संकेत दे सकता है।
 
प्रेग्नेंसी में कई बार मूत्राशय को पूरी तरह खाली कर पाना मुश्किल होता है। यह भी एक वजह है कि आपको बार-बार पेशाब के लिए जाना पड़ता है।
 

गर्भवती होने पर अब मुझे बार-बार पेशाब क्यों आ रहा है?

बार-बार पेशाब आना गर्भावस्था की प्रमाणित विशेषता है। आप पाएंगी कि गर्भवती होने पर आपको बहुत ज्यादा पेशाब आ रहा है, खासकर कि पहली और अंतिम तिमाही में।
 
वास्तव में, यह गर्भवती होने के पहले कुछ संकेतों में से एक है। यह शरीर में हो रहे हॉर्मोनल बदलावों का ही हिस्सा है।
 
गर्भावस्था के अंतिम चरण में, आपका बढ़ा हुआ गर्भाशय मूत्राशय की क्षमता को घटा देता है, और लगता है कि आप ज्यादा पेशाब का उत्पादन कर रही हैं। आपका मूत्राशय खाली होने पर भी, इस पर पड़ रहा दबाव इसके भरे होने का संकेत दे सकता है।
 
प्रेग्नेंसी में कई बार मूत्राशय को पूरी तरह खाली कर पाना मुश्किल होता है। यह भी एक वजह है कि आपको बार-बार पेशाब के लिए जाना पड़ता है।
 
 

गर्भावस्था के दौरान बार-बार पेशाब आने का कारण// Pregnancy Me Bar Bar Peshab Aana

प्रेग्नेंसी में बार बार पेशाब आन
  • मूत्राशय पर दबाव : गर्भ में बढ़ रहा शिशु मूत्राशय (Bladder) पर दबाव बनाता है, जिसकी वजह से आप ज्यादा देर तक पेशाब पर नियंत्रण नहीं रख पातीं  गर्भावस्था की पहली तिमाही के शुरुआती छह से आठ हफ्तों में यह समस्या आम है ।
  • रक्त की मात्रा में वृद्धि: गर्भावस्था के दौरान हार्मोनल बदलाव किडनी में रक्त संचार को बढ़ा देता है, जिससे किडनी में तरल पदार्थ (पेशाब बनाने) की मात्रा बढ़ जाती है। साथ ही इस अवस्था में ब्लड प्लाज्मा की मात्रा करीब 50 प्रतिशत तक बढ़ जाती है और पेशाब बार-बार आने लगता है । गर्भावस्था में ये स्थितियां बार-बार पेशाब आने का कारण बनती हैं।
  • गर्भावधि मधुमेह: कुछ गर्भवती महिलाओं को जेस्टेशनल डायबिटीज यानी गर्भावधि मधुमेह का सामना करना पड़ता है। इससे भी बार-बार पेशाब आ सकता है। ऐसा अक्सर 24-28वें सप्ताह में होता है। इस दौरान महिला को ज्यादा पेशाब आता है और प्यास भी ज्यादा लगती है।
  • यूरिनरी ट्रैक्ट इन्फेक्शन: यूरिनरी ट्रैक्ट इन्फेक्शन (Urinary tract infections) यूरिनरी ट्रैक्ट में होने वाले संक्रमण को कहते हैं। इसमें चार भाग सम्मिलित होते हैं – किडनी, यूट्रस, मूत्राशय और युरेथरा (मूत्रमार्ग)। इसके अलग-अलग लक्षण हो सकते हैं, जैसे बार-बार या ज्यादा बदबूदार पेशाब आना, पेशाब में जलन होना या अलग रंग का पेशाब आना। गर्भवती महिलाओं को यूटीआई का खतरा अधिक होता है, क्योंकि गर्भावस्था के हार्मोन मूत्र मार्ग में परिवर्तन का कारण बनते हैं। इससे संक्रमण की आशंका बढ़ जाती है (5)।

लेख के अगले भाग में हम जानेंगे कि यह समस्या कब शुरू होती है।

 
 

गर्भावस्था के दौरान रात में पेशाब आने से कैसे बच सकते हैं?

 
गर्भावस्था के दौरान रात में बार-बार पेशाब आने की समस्या को नोक्टूरिया (nocturia) कहा जाता है। 80-95 प्रतिशत महिलाओं को यह समस्या होती है । इससे बचने के लिए:
 
  • करवट लेकर सोने से शिशु का दबाव कम हो सकता है।
  • शाम के बाद पानी पीना कम करें, लेकिन ज्यादा नहीं, क्योंकि शिशु और मां को पानी की जरूरत है।
  • यूटीआई की जांच और इलाज कराएं।
  • रात के खाने के बाद कॉफी पीना भी नोक्टूरिया का कारण बन सकता है, इसलिए रात को कॉफी का सेवन न करें ।

 

गर्भावस्था के दौरान जल्दी-जल्दी पेशाब आने से निपटने के लिए जरूरी टिप्स

प्रेगनेंसी में बार-बार पेशाब आने की समस्या अपने आप भी ठीक हो सकती है, लेकिन कुछ घरेलू नुस्खे इस परेशानी को कम कर सकते हैं। नीचे जानिए गर्भावस्था के दौरान बार-बार पेशाब आने से निपटने के लिए कुछ निवारक युक्तियों के बारे में।
  • ऐसे खाद्य पदार्थों के सेवन से बचें, जो पेशाब को बढ़ाने को काम कर सकते हैं, जैसे कैफीन, शराब और चॉकलेट ।
  • क्रेनबेरी जूस पीने से आपको यूरिनरी ट्रैक्ट इन्फेक्शन से राहत मिल सकती है, लेकिन यह गर्भावस्था में कितना प्रभावी है इस पर अभी और रिसर्च होना बाकी है। इसलिए, आप क्रेनबेरी जूस पीने से पहले एक बार डॉक्टर से बात जरूर कर लें।
  • आप किगल अभ्यास (kegel exercises) कर सकती हैं। इससे पेल्विक मांसपेशियां मजबूत होंगी और बार-बार पेशाब आने की समस्या से राहत मिल सकेगी।
  • अगले भाग में हम पाठकों के कुछ सवालों के जवाब दे रहे हैं।

 

इतनी ज्यादा बार पेशाब आना कब बंद होगा?

शिशु के जन्म के बाद जल्द ही आप इस परेशानी से निजात की उम्मीद कर सकती हैं।
 
शिशु के जन्म के पहले कुछ दिनों तक आप गर्भावस्था के दिनों से भी काफी ज्यादा मात्रा में पेशाब करेंगी। ऐसा इसलिए क्योंकि आपका शरीर प्रेग्नेंसी के दौरान प्रतिधारित किए गए अतिरिक्त तरल को बाहर निकालता है।
 
सौभाग्यवश, कुछ दिनों बाद, आपके पेशाब आना सामान्य हो जाएगा, जैसा कि गर्भावस्था से पहले था।
 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button